Sonbhadra News : हार्डकोर नक्सली मुन्ना विश्वकर्मा समेत दो को उम्रकैद, पांच राज्यों में था इनका आतंक

25-25 हजार रुपये का लगाया जुर्माना, अर्थदंड न देने पर दो-दो साल की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी

On

Sonbhadra News : 10 लाख के इनामी हार्डकोर नक्सली मुन्ना विश्वकर्मा और 50 हजार के इनामी नक्सली अजीत कोल को सोनभद्र की जिला अदालत ने उम्र कैद की सजा सुनाई है। करीब साढ़े 11 साल पुराने मामले में दोनों को सजा सुनाई गई। इसी मामले में नक्सली लाल व्रत कोल को भी आजीवन कारावास की सजा अदालत ने 2 फरवरी को सुनाई थी। सत्र न्यायाधीश प्रथम एहसानुल्लाह खां की अदालत ने फैसला सुनाया। इसके अलावा अदालत ने दोनों पर 25-25 हजार रुपये अर्थदंड लगाया है। अर्थदंड न देने पर दो-दो साल की अतिरिक्त कैद भुगतनी होगी।

अभियोजन पक्ष के मुताबिक 23-24 मई 2012 को मुखबिर से सूचना मिली कि कनछ कन्हौरा के जंगल में कुछ नक्सलियों को देखा गया है। जो किसी गंभीर अपराध को अंजाम देने की फिराक में हैं। इतना ही नहीं उनके साथ अन्य प्रांतों के नक्सली संगठन के लोग आकर बैठक कर रहे हैं। तत्कालीन पुलिस अधीक्षक सुभाष चंद्र दुबे ने तत्कालीन सीओ अनिल कुमार यादव, उपनिरीक्षक रविंद्र कुमार सिंह यादव, उपनिरीक्षक जेके सिंह, उपनिरीक्षक शिवानंद मिश्रा, उपनिरीक्षक सुनील चंद तिवारी, उपनिरीक्षक राम मोहन राय, उपनिरीक्षक वीरेंद्र कुमार यादव को अपने-अपने हमराहियों के साथ चोपन थाने पहुंचने का निर्देश दिया। थोड़ी ही देर बाद पुलिस अधीक्षक सुभाष चंद्र दुबे भी फोर्स के साथ चोपन थाने पहुंच गए।  

यह भी पढ़े - Kanpur Dehat: तेज रफ्तार डंपर ने बाइक में मारी टक्कर; पिता की हुई मौत, बेटे की हालत गंभीर, कानपुर रेफर

पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर एसओजी और सीआरपीएफ फोर्स को भी मौके पर बुलाया गया। चोपन थाने पर ही टीम बनाई गई। पहली टीम का नेतृत्व एसपी सुभाष चंद्र दुबे खुद कर रहे थे, दूसरी टीम का नेतृत्व सीओ ओबरा अनिल कुमार यादव कर रहे थे। सभी लोग असलहों से लैस होकर बुलेट प्रूफ जैकेट और अन्य सामग्रियों के साथ कनछ जंगल की तरफ बढ़े तो कुछ दूरी पर कुछ लोग असलहे के साथ बैठे हुए दिखाई दिए। जब एसपी साहब ने नक्सलियों को आत्मसमर्पण करने को कहा तो नक्सलियों ने पुलिस बल के ऊपर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। अपना बचाव करते हुए पुलिस बल ने भी फायरिंग शुरू कर दी। करीब दो घंटे हुई पुलिस मुठभेड़ के बाद नक्सलियों की ओर से गोलीबारी बंद हो गई।

जब पुलिस बल के साथ निगरानी की गई तो दो नक्सली दिखाई दिए, जिन्हें पुलिस टीम ने पकड़ लिया। शेष नक्सली भागने में सफल हो गए। पूछताछ में पकड़े गए नक्सली ने अपना नाम मुन्ना विश्वकर्मा उर्फ विद्रोही, उर्फ रामवृक्ष पुत्र तिलकधारी निवासी समाबाध, कम्हारडीह, थाना राबर्ट्सगंज, जिला सोनभद्र और दूसरे ने अपना नाम अजीत कोल उर्फ अभिषेक उर्फ हरिशंकर कोल पुत्र बहादुर कोल निवासी सनाइत, थाना नौगढ़, जिला चंदौली बताया।

तलाशी करने पर उनके कब्जे से भारी मात्रा में प्रतिबंधित असलहा और 55 जिंदा कारतूस बरामद हुआ। बुलेट प्रूफ जैकेट पर दो फायर लगा था। इस तहरीर पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज किया। मामले की विवेचना करते हुए विवेचक ने पर्याप्त सबूत मिलने पर कोर्ट में चार्जशीट दाखिल किया था। हार्डकोर नक्सली मुन्ना विश्वकर्मा के ऊपर यूपी, एमपी, बिहार, झारखंड और छत्तीसगढ़ में 10 लाख रुपये का इनाम था। सिर्फ यूपी में तीन लाख रुपये का इनाम था। वहीं अजीत कोल के ऊपर 50 हजार रुपये का इनाम था।

मामले की सुनवाई करते हुए अदालत ने दोनों पक्षों के अधिवक्ताओं के तर्कों को सुनने, गवाहों के बयान व पत्रावली का अवलोकन करने पर दोषसिद्ध पाकर दोषी हार्डकोर नक्सली मुन्ना विश्वकर्मा और अजीत कोल को आजीवन कारावास व 25- 25 हजार रुपये अर्थदंड लगाया है।। अभियोजन पक्ष की ओर से अपर जिला शासकीय अधिवक्ता विनोद कुमार पाठक और अभियुक्तगणों की ओर से अधिवक्ता रोशन लाल यादव ने बहस की।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment

Popular Posts