मुरादाबाद: बाढ़ से 900 बीघे की फसल बर्बाद, 10 हजार की आबादी प्रभावित

दशवारी: बाढ़ से हुए नुकसान का विभागों द्वारा किया जा रहा आकलन, रामगंगा नदी का जलस्तर घटा, नागरिकों की दिक्कतें बरकरार

On

मुरादाबाद। बाढ़ प्रभावित इलाकों में 900 बीघे फसल बर्बाद हो गई. महानगर और ग्रामीण इलाकों की 10 हजार की आबादी भी इससे प्रभावित है. रामगंगा नदी का जलस्तर कम होने के बाद भी लोगों की दिक्कतें कम नहीं हुई हैं। बाढ़ से सबसे अधिक प्रभावित होने वाली फसलों में गन्ना, धान और चारा शामिल हैं। विभागों द्वारा क्षति का सर्वे कराया जा रहा है.

रामगंगा नदी का जलस्तर बढ़ने से काफियाबाद, घोसीपुरा, मुस्तफापुर, खैया खादर, हरपाल नगर, रनियाठेर, देवापुर, इमलाक, ताजपुर, रसूलपुर नंगला समेत 39 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। प्रशासन 10 हजार की आबादी को बाढ़ से प्रभावित मान रहा है. लेकिन, हकीकत में ये संख्या कहीं ज्यादा है. शुक्रवार को रामगंगा नदी का जलस्तर घटकर 189.60 मीटर हो गया, लेकिन अभी भी नुकसान के निशान बाकी हैं।

कई किसानों की पूरी फसल पानी में डूब जाने के कारण बर्बाद हो जाने के कारण उन्हें भुखमरी का सामना करना पड़ रहा है. एसडीएम सदर विनय पांडे ने बताया कि बाढ़ से 39 गांव आंशिक रूप से प्रभावित हुए हैं। इनमें से कुछ गाँव निर्जन भी हैं। इन गांवों में 8-10 हजार की आबादी प्रभावित हुई है. इस वर्ष रामगंगा दो बार लाल निशान को पार कर गयी। रामगंगा नदी इस साल अगस्त और सितंबर में दो बार लाल निशान को पार कर गई। जिसका असर ग्रामीण इलाकों में ज्यादा पड़ा. खेतों में बाढ़ का पानी भरने से फसलें डूब गईं।

यातायात भी प्रभावित हुआ. अब पानी कम होने से बीमारियों का खतरा है। महानगर के भोलानाथ कॉलोनी, सूरजनगर, नवाबपुरा और जामा मस्जिद इलाके में जलभराव हो गया। बाढ़ से ग्रामीण इलाकों में करीब 900 बीघे फसल बर्बाद हो गयी है.

यह भी पढ़े - अवध बिहारी सिंह की यह रचना सुनकर भावुक हो गये थे युवा तुर्क चंद्रशेखर

किसान खराब हुई फसलों का बीमा क्लेम ले सकते हैं

मुरादाबाद। किसान बाढ़ से बर्बाद हुई फसलों का बीमा क्लेम ले सकते हैं. उन्हें बीमा कंपनी को जानकारी देनी होगी. कृषि विभाग द्वारा फसलों का बीमा किया जा रहा है। पिछले साल 347 किसानों ने बीमा क्लेम लिया था। किसान अपनी धान, उड़द और सरसों की फसल का बीमा कराने में अधिक रुचि ले रहे हैं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत 10 अगस्त तक चले अभियान में 5,000 किसानों ने अपनी फसलों का बीमा कराया. इससे किसानों को यह फायदा है कि अगर किसी आपदा के कारण उनकी फसल खराब हो जाती है, तो उन्हें बीमा क्लेम मिल सकता है. किसान को यह जानकारी 72 घंटे के अंदर बीमा कंपनी को देनी जरूरी है. पिछले वर्ष 347 किसानों को 61.24 लाख रुपये के बीमा दावे का भुगतान किया गया था। जिला कृषि पदाधिकारी ऋतुषा तिवारी ने बताया कि बाढ़ से प्रभावित फसलों का सर्वेक्षण कराया जा रहा है. इसकी रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी। किसान फसल नुकसान की जानकारी बीमा कंपनी को देकर क्लेम ले सकते हैं। 

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment