राहुल गांधी की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, कोर्ट से जारी नोटिस में एक नवंबर को सुनवाई, जानें क्या है मामला

On

Lucknow News: कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ सकती हैं. राजधानी लखनऊ में उनके खिलाफ दर्ज मुकदमे से संबंधित याचिका को जिला एवं सत्र न्यायाधीश अश्विनी कुमार त्रिपाठी ने स्वीकार कर लिय है. इसके साथ ही अदालत से केरल की वायनाड लोकसभा सीट से सांसद राहुल गांधी को नोटिस भेजा गया है. वहीं इस प्रकरण को एमपी एमएलए कोर्ट के विशेष न्यायाधीश के न्यायालय में स्थानांतरित कर दिया है. अब कोर्ट में होनी वाली सुनवाई पर सभी की नजरें टिकी हुई हैं.

प्रकरण के मुताबिक कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के विरुद्ध दाखिल आपराधिक परिवाद को खारिज किए जाने के निचली अदालत के आदेश के विरुद्ध जिला एवं सत्र न्यायाधीश अश्विनी कुमार त्रिपाठी के समक्ष आपराधिक निगरानी दायर की गई है. इस निगरानी याचिका को स्वीकार करते हुए न्यायालय ने सांसद राहुल गांधी समेत अन्य विपक्षी लोगों को नोटिस जारी करते हुए याचिका को एमपी एमएलए कोर्ट के विशेष न्यायाधीश के न्यायालय में स्थानांतरित कर दिया. इसके साथ ही प्रकरण में एक नवंबर को सुनवाई होगी.

यह भी पढ़े - बदायूं: शादियों में बाराती बनकर गए और चोरी कर लिए कैमरे, दो आरोपी गिरफ्तार

दरअसल परिवादी नृपेंद्र पाण्डेय ने राहुल गांधी पर आरोप लगाते हुए मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट तृतीय के समक्ष एक परिवाद दाखिल किया था. इसमें कहा गया कि विपक्षी ने भारत जोड़ो यात्रा के दौरान महानायक क्रांतिवीर विनायक दामोदर सावरकर पर अभद्र टिप्पणी करते हुए उन्हें अंग्रेजों से पेंशन लेने वाला तथा अंग्रेजों का नौकर सहित मददगार बताया था.

आरोप लगाया कि विपक्षी ने सोची समझी रणनीति और षड्यंत्र के तहत सावरकर को अपमानित करने के उद्देश्य से 17 नवंबर 2022 को महाराष्ट्र के अकोला में प्रेसवार्ता की. इस दौरान उन्होंने सार्वजनिक मंच से सावरकर के विरुद्ध दोषारोपण कर समाज में वैमनस्यता फैलाने के मकसद से आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया, जिसे निचली अदालत ने 14 जून 2023 को गुण-दोष के आधार पर खारिज कर दिया था. अब मामला एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है.

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment