लखनऊ: जिम्मेदार भूल गए 54 लोगों की मौत, फिर धधकने लगी शराब की भट्टी

गांवों में बन रही अवैध शराब से उजड़ रहे परिवार, आठ वर्ष पूर्व मलिहाबाद के दतली गांव में कच्ची शराब के सेवन हुई थी कई लोगों की मौत

On

लखनऊ: करीब आठ साल पहले मलिहाबाद के दतली गांव में कच्ची शराब पीने से 54 लोगों की मौत के मामले को भी जिम्मेदार भूल गए हैं। शहर के बाहरी ग्रामीण क्षेत्रों में फिर से कच्ची शराब की भट्टियां धधकने लगी हैं। यूं तो कच्ची शराब पर रोक लगाने का दावा आबकारी और पुलिस के अधिकारी करते हैं, लेकिन महज खानापूरी तक ही यह कार्रवाई सीमित रहती है।

थाने से महज एक किमी. की दूरी पर बनती है कच्ची शराब

माल थाने से महज एक किलोमीटर की दूरी पर रामनगर और वीरपुर गांव में कच्ची शराब का कारोबार होता है। इसके अलावा माल के थवार, भभूति खेड़ा, समेसी, बाजारगांव अऊमऊ, गौरैया, साहमऊ, पीरनगर, थरी, सुरती खेड़ा, तरौना सहित एक दर्जन गांवों में कच्ची शराब फिर से बनने लगी है। तैयार नशीला पेय खुलेआम यहां बेचा जाता है। सिर्फ यही नहीं, मोहनलालगंज कोतवाली क्षेत्र के इंद्रजीत खेड़ा, ददियाना, कनकहा, जबरौली, जैतीखेड़ा, कोड़हा, हुलास खेड़ा, खुजौली, सिसेंडी और फत्ते खेड़ा। गोसाईंगज थानाक्षेत्र के घुसवल, मौरा कला, मौरा खुर्द सूरियामऊ, अस्ती और चिनहट थानाक्षेत्र के दमादनपुरवा, गुलहरिया गांव में कच्ची शराब बनाई जाती है।

यह भी पढ़े - लखनऊ जोन की कानून व्यवस्था में अब दिखेगा सुधार, एसबी शिरडकर ने लिया चार्ज

2015 में 54 लोगों की गई थी जान, आधा दर्जन ने गंवाई थीं आंखों की रोशनी

12 जनवरी 2015 में कच्ची शराब के सेवन से मलिहाबाद, इब्राहिम, अटौरा, खड़ता, रामपुरबस्ती, गुडवा, पहाड़पुर, बंथरा और उन्नाव जनपद के जवन, करौंदी और तलवा पिछवाड़ा गांव के कुल 54 लोगों की मौत हो गई थी। जबकि आधा दर्जन लोगों की आंखों की रोशनी चली गई थी। इसके बाद आबकारी विभाग ने मलिहाबाद कोतवाली में शराब कारोबारी जगनू पर मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया था। हालांकि प्रशासन ने भी आरोपित शराब कारोबारी पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) की र्कारवाई की थी। जिसके बाद से मलिहाबाद में शराब की भट्टियों पर पाबंदी लगाई गई थी।

कार्रवाई पर एक नजर

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, बीते पांच माह में माल और रहीमाबाद पुलिस ने 20 लोगों पर एफआईआर दर्ज कर 182 लीटर कच्ची शराब बरामद की है। इसमें 10 पुरुषों के अलाव सात महिलाओं को भी कच्ची शराब बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया है। जबकि, ऐसे कई परिवारों को शराब के नशे ने उजड़ दिया है।

छह लोगों की मौत के बाद पुलिस आयुक्त पर गिरी थी गाज

13 नवम्बर 2020 को बंथरा में कच्ची शराब के सेवन से छह लोगों की मौत हो गई थी। मामले को संज्ञान में लेते हुए जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए थे। इसके साथ मजिस्ट्रेट और आबकारी टीम ने जांच रिपोर्ट तैयार कर शासन को सौंप दी थी। इस मामले में शासन ने फौरन कार्रवाई करते हुए तत्कालीन लखनऊ पुलिस आयुक्त सुजीत पांडेय को हटा दिया। उनके स्थान पर डीके ठाकुर (ध्रुवकांत ठाकुर) को नियुक्त किया था।

कच्ची शराब बिकती हजारों लीटर रोज, पकड़ी जाती महीनों में 182 लीटर

रहीमाबाद पुलिस ने बीते पांच माह में 72 लीटर कच्ची शराब बरामद की है, जबकि माल थाने से 110 लीटर शराब बरामद की गई है। दोनों थानाक्षेत्रों को मिलाकर पुलिस ने 20 लोगों पर एफआईआर दर्ज कर 10 पुरुषों और सात महिलाओं को शराब बेचने के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेजा है। स्थानीय लोगों का कहना है कि शराब बरामद होने पर पुलिस को अंकुश लगाना चाहिए। आरोप है कि पुलिस शराब बेचने वालों की चेन पकड़ने में भी नाकाम है। एक तरफ केंद्रीय राज्यमंत्री कौशल किशोर नशा मुक्त समाज बनाने की मुहिम में जुटे हैं, तो वहीं पुलिस अवैध कच्ची शराब से मुंह मोड़े है।

क्या बोले केंद्रीय राज्य मंत्री

केंद्रीय राज्य मंत्री कौशल किशोर ने लोगों को नशे की प्रवृत्ति के खिलाफ चेताते हुए कहा कि सभी को नशे से परहेज करना चाहिए। आज के युग में 11 फीसद लोग 60 वर्ष, 7 प्रतिशत लोग 70 वर्ष की उम्र तक ही जीवित रह पा रहे हैं । इसका मुख्य कारण नशा है। लोगों को सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं में हिस्सा लेकर अपने और अपने परिवार की आने वाली नस्लों का जीवन बर्बाद होने से बचाना चाहिए।

काफी महिलाएं इस दिशा में रोकथाम को लेकर कार्य कर रही हैं। माल के अटारी में टेक्सटाइल पार्क का निर्माण होने जा रहा है। यहां पर महिलाओ सहित पुरुषों को अवैध शराब का कारोबार छोड़कर टेक्सटाइल पार्क से जोड़ने के लिए प्रयास किए जाएंगे। शराब में काफी परिवारों को बर्बाद किया है, आगे आये और स्वालंबन के साथ जीवन यापन करें ।
संयोगिता सिंह चौहान, प्रधान संघ अध्य्क्ष व प्रधान अटारी।

आबकारी विभाग के संग मिलकर पुलिस टीम लगातार दबिश दे रही है। चिन्हित गांव में लगातार छापेमारी कर कार्रवाई की जा रही है। कई लोगों को पकड़ा भी गया है। हालांकि, अधिकारियों के संग मिलकर पुलिस देशी ठेकों पर भी चेंकिग करेगी और सूचना मिलने पर फौरन कार्रवाई की जाएगी..., वीरेंद्र विक्रम, एसीपी, मलिहाबाद।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment