लखनऊ : सफाई में जंग लगे संसाधन दिखे तो होगी कार्रवाई, मंडलायुक्त ने नगर आयुक्त को दिए निर्देश

On

लखनऊ: शहर की साफ-सफाई में सड़कों पर नए उपकरण व मशीनें दिखाई दें। जर्जर व जंग लगे संसाधन दिखे तो संबंधित पर सख्त कार्रवाई करेंगे। नगर निगम के अधिकारी सुबह 6 बजे क्षेत्रों का भ्रमण कर हकीकत परखें। यह हिदायत मंडलायुक्त डॉ. रोशन जैकब ने दी है।

गुरुवार को मंडलायुक्त ने आयुक्त सभागार में शहर की सफाई व्यवस्था को लेकर नगर आयुक्त इंद्रजीत सिंह व अन्य अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने पिछले सप्ताह सुबह 6 बजे खुद किए निरीक्षण का हवाला दिया। जिसमें एक जगह को छोड़कर बाकी कहीं पर सफाई व कर्मचारी नहीं मिले थे। साथ ही कूड़ा उठान में जंग लगे संसाधन देख नाराजगी जताई थी। जिस पर नाराजगी जताते हुए चेतावनी दी कि रोजाना सुबह 5 से 9 बजे तक शहर की सफाई होनी चाहिए। संबंधित अधिकारी सुबह 6 बजे से भ्रमण करें। क्षेत्र में कहीं पर भी जंग लगे या जर्जर उपकरण व मशीनें दिखी तो कार्रवाई करेंगे। सफाईकर्मी यूनिफॉर्म में दिखें। किसी भी जोन में हत्थू ठेले, विन्स आदि उपकरण इधर-उधर पड़े मिले तो जोनल अधिकारियों को सस्पेंड करेंगे। टेंडर या रिटेंडर में बेवजह विलंब होने पर अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। 

यह भी पढ़े - सड़क हादसे में गोरखपुर महानगर कांग्रेस अध्यक्ष आशुतोष त्रिपाठी की मौत, पत्नी और बेटी रेफर

10 चौराहों की पीडब्ल्यूडी ने नहीं दी रिपोर्ट

शहर के 10 चौराहों की यातायात व्यवस्था दुरुस्त करने के साथ विकसित करने के लिए मंडलायुक्त ने पीडब्ल्यूडी से रोड सेफ्टी ऑडिट करते हुए रिपोर्ट मांगी थी। जो अब तक नहीं मिली है। ऐसे में मंडलायुक्त ने नाराजगी जताते हुए एक सप्ताह में रिपोर्ट मांगी है।

मंडल के छह जिलों ने नहीं दी आख्या

थाना दिवस में कम प्रार्थना पत्रों को देखते हुए पुलिस व राजस्व विभाग मौके पर ही मामलों का निस्तारण कर सकता है। यह हवाला देते हुए मंडलायुक्त ने लखनऊ, उन्नाव, रायबरेली, हरदोई, सीतापुर व लखीमपुर खीरी को निस्तारण संबंधित निर्देश जारी किए थे। साथ ही अनुपालन आख्या मांगी थी। जो नहीं दी गई है। इस संबंध में सभी जिलाधिकारी को दोबारा पत्र जारी कर आख्या मांगी है। 

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment