Hardoi news: कड़ी सुरक्षा के बीच कुख्यात माफिया खान मुबारक का शव बहन को किया गया सुपुर्द, अंबेडकरनगर किया गया रवाना

On

जिले में कुख्यात माफिया खान मुबारक को विगत 2 जून 2022 को महाराजगंज जिला कारागार से प्रशासनिक आधार पर हरदोई जिला कारागार में ट्रांसफर किया गया था।

हरदोई। जनपद के जिला कारागार में निरुद्ध माफिया जफर सुपारी के भाई और अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन के शूटर कुख्यात माफिया खान मुबारक की मौत के बाद उसके शव का पैनल गठित कर पोस्टमार्टम कराकर शव को परिजनों के सुपुर्द किया गया।देर रात खान मुबारक की बहन और भांजी अपने अधिवक्ता के साथ पोस्टमार्टम हाउस पहुंची, जहां उसके शव को उनके सुपुर्द कर दिया गया।खान मुबारक के शव को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के साथ अंबेडकरनगर रवाना किया गया है।पोस्टमार्टम रिपोर्ट में लंग्स में इन्फेक्शन और हार्ट अटैक के चलते मौत की पुष्टि हुई है।खान मुबारक का शव लेने पहुंचे अधिवक्ता का कहना है कि खान मुबारक के पैर में दर्द था जिसके लिए हरदोई एसपी को सही से इलाज ना होने का प्रार्थना पत्र दिया गया था जिस पर उन्होंने इलाज कराने का आश्वासन दिया था।वही खान मुबारक की बहन का कहना है कि उसे हार्ट की बीमारी नहीं थी फिलहाल परिजनों ने किसी तरह का कोई आरोप नहीं लगाया है।

जिले में कुख्यात माफिया खान मुबारक को विगत 2 जून 2022 को महाराजगंज जिला कारागार से प्रशासनिक आधार पर हरदोई जिला कारागार में ट्रांसफर किया गया था। खान मुबारक विगत 1 साल से हरदोई जिला कारागार में निरुद्ध था। सोमवार दोपहर उसकी हालत बिगड़ी, जिसके बाद उपचार के लिए उसे जिला अस्पताल लाया गया जहां उसकी मौत हो गई थी।खान मुबारक की मौत के बाद कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच तीन डॉक्टरों का पैनल गठित कर उसके शव का पोस्टमार्टम कराया गया।प्राथमिक तौर पर चिकित्सकों ने बताया था कि निमोनिया के चलते उसकी मौत हुई है।पोस्टमार्टम रिपोर्ट में लंग्स इंफेक्शन और हार्ट अटैक के चलते मौत होने की पुष्टि हुई है। हालांकि इसको लेकर कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।

खान मुबारक की मौत की सूचना के बाद अंबेडकर नगर जिले के थाना बसखारी के मकोइया गांव की रहने वाली उसकी बहन नाज़मीन अख्तर पत्नी मोहम्मद उमर और उसकी भांजी देर रात अपने अधिवक्ता बलराम पटेल के साथ हरदोई पहुंचे, जहां खान मुबारक के शव को उनके सुपुर्द कर दिया गया।भारी पुलिस बल के साथ खान मुबारक के शव को उसके परिजनों के साथ अंबेडकरनगर रवाना किया गया है।खान मुबारक के अधिवक्ता बलराम पटेल के मुताबिक, 29 तारीख को खान मुबारक जब पेशी पर लाया गया था तो वह सही था, उसके बाद 2 जून को उसे पेशी पर लाया गया था तब उसने बताया कि उसके पैर में दर्द था और उसने कहा था कि जेल में उसका सही से उपचार नहीं हो रहा है इसको लेकर उसने रूटीन चेकप के दौरान एसपी को प्रार्थना पत्र दिया था जिस पर उसे उपचार कराने का आश्वासन दिया गया था।आज उसकी मौत की सूचना मिली।वही इस मामले में खान मुबारक की बहन नाज़मीन अख्तर का कहना है कि अल्लाह की चीज थी अल्लाह ने ले ली ,जब कुछ हो नहीं सकता तो फिर क्या कहना है उनका भाई हार्ट का पेशेंट नहीं था।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment