हरदोई: पिता ने कंपकंपाते हाथों से बेटी निष्ठा का किया अंतिम संस्कार, लखनऊ में गोली लगने से हुई थी मौत

On

हरदोई। लखनऊ हुई बी-कॉम आनर्स की छात्रा निष्ठा तिवारी की हत्या के बारे में वहां की पुलिस चाहे कोई दावा करें, लेकिन हरदोई के लोग उन दावों में कोई दम न होने का दावा कर रहें हैं। आधी रात को निष्ठा का शव उसके घर पहुंचा, वहां पहले से ही लोगों की भीड़ इकट्ठा थी।

सारी रात आंखों में ही कट गई। उसके अगले दिन सुबह उसका शव राजघाट ले जाया गया, जहां निष्ठा के पिता संतोष तिवारी ने अपने कंपकंपाते हुए हाथों से उसका अंतिम संस्कार किया। बताते चलें कि बुधवार की आधी रात को लखनऊ के दयाल रेजीडेंसी के अपार्टमेंट में बीबीडी की बी-कॉम आनर्स की छात्रा निष्ठा तिवारी की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी।

यह भी पढ़े - चित्त को प्रसन्न रखने में षट्कर्मो की अहम भूमिका : प्रो. ईश्वर भारद्वाज

हालांकि लखनऊ पुलिस उसकी हत्या करने वाले बलिया निवासी आदित्य पाठक को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ कर रही है। उधर छात्रा के पिता संतोष तिवारी की तहरीर पर हत्या का केस दर्ज करने के बाद लखनऊ पुलिस हर एक पहलू की बारीकी से जांच कर रही है। वैसे तो संतोष तिवारी साण्डी थाने के घमोइयां के रहने वाले हैं, लेकिन बच्चों की पढ़ाई की खातिर उन्होंने शहर के मोहल्ला ऊंचा थोक उत्तरी में मकान बना रखा है। संतोष तिवारी की एक बेटी निष्ठा और एक बेटा रेशू है।

रेशू हरदोई में ही पढ़ाई करता है। गुरुवार की आधी रात को निष्ठा का शव उसके घर पहुंचा। जहां आस-पड़ोसियों के अलावा सारे नाते-रिश्तेदार पहले से ही बैठे हुए थे। सारी रात आंखों में ही कट गई। उसके बाद शुक्रवार की सुबह शव को राजघाट ले जाया गया, जहां निष्ठा का अंतिम संस्कार किया गया। 

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment