फिरोजाबाद: हंगामे के बीच हुई नगर निगम बोर्ड बैठक 5.53 करोड़ का वार्षिक बजट हुआ पास

On

फिरोजाबाद। नगर निगम की बोर्ड  मीटिंग गांधी पार्क स्थित रामचन्द्र पालीवाल हॉल में शुरू होते ही पार्षदों ने हंगामा शुरू कर दिया वर्ष 2024-25 के बजट चर्चा को बुलाई निगम बोर्ड की बैठक में जमकर हंगामा,नारेबाजी हुई।

नगर निगम द्वारा स्मार्ट सिटी में कराये जाने वाले विकास कार्यो को देखते हुए बोर्ड मीटिंग पालीवाल हॉल में बुलाई गई थी। इस बोर्ड मीटिंग में सत्ता व विपक्ष के पार्षदों द्वारा जमकर हंगामा किया गया, और एजेंडा की प्रतियों को फाड़कर हवा में उछाला गया। व साउण्ड सिस्टम के स्विच व माइक को भी तोड़ा गया।

यह भी पढ़े - महिला मित्र की ब्लैकमेलिंग और धमकियों से परेशान पुलिस कांस्टेबल ने खुद को गोली से उड़ाया

बोर्ड मीटिंग के शुरू होते ही वार्ड नम्बर57 के पार्षद शारिक सलीम ने जलकल विभाग में तैनात जेई मयंक यादव द्वारा उनके विरुद्ध सरकारी कार्य मे बाधा डालने की तहरीर थाने में देने की बात को कहते हुए कहा कि सदन की कार्यवाही से पहले जेई को सदन में बुलाया जाये,  तभी सदन की कार्यवाही शुरू हो सकेगी, इस बात को सुनकर नगर आयुक्त घनश्याम मीणा ने पार्षद को आश्वस्त करते हुए कहा कि जानकारी कर इसे समाप्त कराया जायेगा। इसके बाद सदन की कार्यवाही को आगे बढ़ाया गया

मीटिंग में उपस्थित सभी पार्षदों द्वारा अपने अपने क्षेत्रों के विकास के लिये कार्यो को  सदन के सामने रखा जाने लगा, तभी सत्ता पक्ष के मनोज शंखवार ने अपने क्षेत्र के विकास कार्यो को सौतेला व्यवहार कर भेदभाव किया जाने का आरोप लगाते हुए बात कही तो विपक्ष के पार्षदों द्वारा इस पर हंगामा शुरू कर दिया।

उपसभापति श्याम सिंह यादव ने बजट बैठक को पटरी पर लाने की कोशिश की। लेकिन उनकी बात को अनसुना कर दिया गया। भेदभाव का आरोप लगा रहे कई पार्षद मुनेद्र यादव, वाहिद,लाला राइन,शारिक सलीम आदि फर्श पर लेट गये।इस बीच सदन के भीतर नारेबाजी होती रही।वहीं हंगामा को थमाने के लिए महापौर व नगर आयुक्त ने भी सदस्यों से बजट पर चर्चा का अनुरोध किया। लेकिन हंगामा व नारेबाजी नहीं थमी। माहौल खराब होते दिखी इसी बीच सत्तापक्ष के अधिकांश पार्षदों ने एकराय होकर बजट पास कराने को हाथ खड़े कर दिये। और इसके साथ ही से लगभग 5.53 अरब की लागत वाले वार्षिक बजट को बोर्ड के अनुमोदन की घोषणा हो गई।महापौर कामिनी राठौर ने 2024-25 के बजट को पास करने का ऐलान कर दिया। 

--------------------------------
झलकियां
हंगामे के बीच बगैर चर्चा लगभग 5.53 करोड़
 के वार्षिक बजट को मंजूरी

बोर्ड की मीटिंग में उप सभापति की कुर्सी न डाले जाने पर उपसभापति मंच से जाने लगे तो पार्षदों ने कुर्सी ले जाकर डाली 

विकास कार्यो में भेदभावों को लेकर उत्पन्न गतिरोध के बीच सत्ता और विपक्ष के पार्षदों के बीच शुरू से आखिर तक हुई नोकझोंक

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment

Popular Posts