बीआरसी पर शिक्षकों ने भरी हुंकार, बोले- अब खुद के मोबाइल से नहीं करेंगे कार्य, रखी ये मांग

On

Deoria News : प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रांतीय नेतृत्व के आह्वान पर सोमवार को लार बीआरसी पर शिक्षकों ने 21 सूत्रीय मांग को लेकर हुंकार भरी। प्रदेश सरकार पर शिक्षक हितों की अनदेखी का आरोप लगाया। कहा कि मोबाइल, सिम, डाटा सब हम लोगों का अपना है इससे अब सरकारी कार्य नहीं करेंगे। खंड शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर मांगों के समर्थन में नारेबाजी की। इस दौरान शिक्षामित्र और अनुदेशकों ने भी प्राथमिक शिक्षकों का साथ दिया।

विद्यालयों में संसाधन उपलब्ध कराने की मांग

यह भी पढ़े - जल्दी में बच्चे को स्कूल में बंद कर धरने पर चले गए टीचर, दो घंटे तक रोता रहा बच्चा, लापरवाही पर प्रधानाचार्य सस्पेंड

प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष डॉ. गोविंद मिश्रा ने कहा कि ऑनलाइन हाजिरी सहित अन्य कार्य करने के लिए विभाग की ओर से शिक्षकों को संसाधन उपलब्ध नहीं कराया गया है। सिम, डाटा व मोबाइल निजी है। इससे वे कोई कार्य नहीं करेंगे। शिक्षिकाओं व बालिकाओं के फोटोग्राफ का दुरुपयोग हो सकता है। उन्होंने कहा कि विद्यालयों में नेटवर्क नहीं रहता है। जिससे शिक्षकों को बड़ी परेशानी हो रही है। संसाधन उपलब्ध कराने पर ऑनलाइन हाजिरी के बारे में विचार किया जाएगा।

पुरानी पेंशन बहाली पर चुप्पी साधे है सरकार

उपाध्यक्ष अरुण कुमार तिवारी ने कहा कि शिक्षकों को केंद्रीय कर्मचारियों के बराबर सुविधा दी जाए। पदोन्नति, कैशलेस मेडिकल सुविधा, कर्मचारियों के बराबर सीएल दिया जाए। पुरानी पेंशन को तत्काल बहाल किया जाए। संगठन महामंत्री राजकपूर ने कहा कि पुरानी पेंशन बहाली पर सरकार चुप्पी साधे हुए है। 10 वर्षों से पदोन्नति नहीं हुई। शिक्षकों के पास न तो कैशलेश चिकित्सा है न ही जीवन बीमा। शिक्षामित्र और अनुदेशक भी सरकार की गलत नीतियों के कारण भुखमरी के कगार पर जीवन जी रहे हैं

ये रहे मौजूद

इस दौरान अनवर अहमद, ओमप्रकाश यादव, राजेंद्र वर्मा, अजय कुमार वर्मा, शिवेश यादव, मुकेश यादव, अरविन्द कश्यप, कुलदीप सिंह, अजीत सिंह, प्रियांशु तिवारी, कन्हैया पांडेय, सूर्यप्रकाश वर्मा, शिब्लु सिंह, नगमा, पुष्पा, मुसर्रत आदि मौजूद रहे।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment

Popular Posts