Deoria Murder Case : सत्य प्रकाश दुबे की बेटी का खुलासा, पुलिस फोन उठा लेती तो नहीं होता नरसंहार

On

लखनऊ. यूपी के देवरिया के एक गांव फतेहपुर में नौ बीघा जमीन को लेकर हुई हिंसा में एक ही परिवार के 5 लोगों समेत छह की हत्या हो गई थी. इस नरसंहार में मारे गए सत्य प्रकाश दुबे की जिंदा बची इकलौती बेटी शोभिता ने बड़ा खुलासा किया है. सुबह 5:00 बजे फोन कर झगड़े की सूचना दे दी गई थी. पुलिस समय से फोन उठा लेती तो तो इतनी बड़ी घटना नहीं हो पाती .घटना के दिन मेरे छोटे भाई ने सुबह 5:00 बजे फोन कर जानकारी दी थी कि प्रेम यादव घर पर पहुंचकर पिता से लड़ाई कर रहा है. 2 अक्टूबर सोमवार को हुए नरसंहार ने पूरे उत्तर प्रदेश को झकझोर कर रख दिया है. एक पक्ष से पूर्व जिला पंचायत सदस्य प्रेम यादव की निर्मम हत्या के बदले में सत्य प्रकाश दुबे के पूरे परिवार को खत्म कर दिया गया था. आरोप है कि सत्य प्रकाश के घर में जो भी मिला उसे प्रेम यादव के परिवार और परिवार के लोगों ने काट दिया और गोली मार दी थी.

10 साल की मृतक नंदिनी को बना दिया हत्यारोपी

फिलहाल  पुलिस ने मृतक सत्य प्रकाश दुबे, उनकी पत्नी,10 साल की मृतक बेटी नंदिनी और 15 साल की बेटी गांधी को प्रेम यादव का हत्याराेपी बनाया है. अब सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या 10 साल की बेटी किसी का मर्डर कर सकती है ? देवरिया पुलिस में अभी तक 16 लोगों को गिरफ्तार किया है. गांव में माहौल को देखते हुए पुलिस और पीएसी बल लगी हुई है पूरा गांव छावनी में तब्दील हो चुका है.

यह भी पढ़े - मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजभवन में किया योग

27 लोगों नामजद कर सुमित 77 लोगों पर मुकदमा

पुलिस की गिरफ्त से अभी भी 11 आरोपी फरार हैं. वही पुलिस ने सत्य प्रकाश दुबे की बेटी की तहरीर के आधार पर 27 लोगों नामजद सहित 77 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया हैं. इस कांड में प्रेम यादव की हत्या किसने की, उसकी हत्या की सूचना घर वालों को किसने दी, प्रेम की हत्या का चश्मदीद अब तक पुलिस के सामने नहीं आया है. ना ही पुलिस ने 16 लोगों की गिरफ्तारी के बाद कैसे खुलासा किया है? पुलिस ने सिर्फ इतना ही कहा कि इस मामले में 16 गिरफ्तारी हुई हैं. पुलिस इससे ज्यादा कुछ भी नहीं कह रही है.

प्रेम यादव के अवैध कब्जा पर चल सकता है बुलडोजर

हत्याकांड के एक दिन बाद राजस्व की टीम घटनास्थल पर पहुंच गई. साथ में तहसील और जिला प्रशासन के अधिकारी हत्याकांड में मारे गए प्रेम यादव के घर पहुंचे.उन लोगों ने प्रेम यादव और उसके परिवार के नाम की जमीनों की जांच की साथ ही जिला प्रशासन के अधिकारियों ने प्रेम यादव के घर को भी नांपा था ऐसा कहा जा रहा है कि प्रेम का घर खलिहान की जमीन पर बना हुआ है. वही ऐसे में माना जा रहा है कि आरोपी यादव परिवार की अवैध कब्जे वाले घर पर बुलडोजर चलाया जा सकता है.

गांव में दहशत का माहौल

फिलहाल इस हत्याकांड के बाद गांव में दहशत का माहौल है. लेकिन एक सवाल और उठता है कि क्या इतने बड़े कांड के दौरान जब गोलियां चली,लाठी डंडे से पिटाई की गई ,बड़ी संख्या में दबंग पहुंचे ,तब क्या किसी ने घटना के बारे में पुलिस को सूचना नहीं दी. क्या किसी ने वीडियो या फोटो नहीं बनाया. क्या पूरे गांव के लोग ही मुख्य दर्शक बनकर तमाशा ही देख रहे थे.

रुद्रपुर थाना और डायल 112 पर किया था फोन

मृतक सत्य प्रकाश दुबे की इकलौती बची बेटी शोभिता ने अपनी आप बीती बताई. बताया कि 2 अक्टूबर सोमवार के दिन सुबह 5:00 बजे उसके छोटे भाई दीपेश का फोन उसके पास आया था. उसने बताया कि प्रेम यादव घर पर आया हुआ है, और पापा से लड़ाई कर रहा है. दीदी तुम जल्दी से पुलिस को फोन कर दो. प्रेम यादव पापा से मारपीट भी कर रहा है. उसने बताया कि मैं तुरंत इसकी सूचना रुद्रपुर थाने से लेकर डायल 112 पर देने की कोशिश की, लेकिन उन लोगों का फोन नहीं उठा. मैं कभी पुलिस को फोन करती रही तो कभी भाई को फोन करती रही. लेकिन कोई जवाब नहीं मिल रहा था.

एसपी को फोन किया तब जाकर पुलिस पहुंची 

शोभिता ने बताया कि कुछ देर के बाद मेरे भाई का फोन बंद हो गया तब मैंने दोबारा अपने पापा को फोन लगाया तो उनका भी मोबाइल फोन बंद आ रहा था. घर में केवल दो ही मोबाइल फोन है. पड़ोस के लोगों का भी किसी का नंबर मेरे पास नहीं था. मुझे किसी अनहोनी की आशंका हो गई थी. इसके बाद मैंने गूगल से एसपी देवरिया का नंबर निकाला और उनसे बात की जिसके बाद गांव में पुलिस पहुंची. जब पुलिस पहुंची तो पापा ,मम्मी ,दो बहनें और एक भाई की हत्या हो चुकी थी. छोटे भाई की सांसें चल रही थी. उसे पुलिस ने अस्पताल पहुंचाया .अगर समय रहते पुलिस का फोन उठ जाता तो इतनी बड़ी घटना होने से बच जाती.

सांसद रविकिशन  ने घायल 

गोरखपुर, बीआरडी मेडिकल कालेज में घायल मासूम का हाल।जानने पहुंचे सांसद रवि किशन.

गोरखपुर के सांसद रवि किशन ने बुधवार को बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में भर्ती देवरिया घटना मे घायल मासूम अनमोल दुबे का हाल जाना. सांसद रवि किशन ने कहा कि देवरिया की घटना से मन बहुत दु:खी है. मैं नि:शब्द हूं क्या बोलूं . ऐसी घटना का होना निंदनीय है. एक साथ इतनी लोगों की हत्या बहुत दर्दनाक है. खुद मुख्यमंत्री की नजर इस पूरी घटना पर है. दोषियों को कठोरतम सजा मिलेगी. कोई बचेगा नहीं. इस दौरान उनके साथ भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉक्टर धर्मेन्द्र सिंह व परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह मौजूद रहे.

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment