सपा ने तीसरी सूची की जारी, बरेली लोकसभा सीट पर प्रवीण सिंह ऐरन को मिला टिकट

On

बरेली। समाजवादी पार्टी (सपा) ने बरेली लोकसभा सीट पर पूर्व सांसद प्रवीण सिंह ऐरन पर दांव लगाया है। उन्होंने वर्ष 2009 में भाजपा के पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद संतोष कुमार गंगवार को करीब 11 हजार मतों से चुनाव हराया था। इसके साथ ही यूपी सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। उनका टिकट होने के बाद सपाइयों ने मिठाई खिलाकर बधाई दी।

जानें पूर्व सांसद का सियासी कद
बरेली लोकसभा सीट से पूर्व मंत्री भगवत शरण गंगवार, और पूर्व सांसद प्रवीण सिंह ऐरन टिकट के दावेदार थे। हालांकि, कई अन्य लोग भी टिकट मांग रहे थे। मगर, इस बार पूर्व सांसद टिकट में बाजी मारने में सफल साबित हुए। पूर्व मंत्री एवं नवाबगंज विधानसभा सीट से पांच बार के विधायक भगवत शरण गंगवार को सपा ने लोकसभा चुनाव 2009, और 2019 में टिकट दिया था। 

यह भी पढ़े - बलिया जिला कारागार से कैदियों को अन्यत्र स्थानांतरित करना अविवेकपूर्ण निर्णय : विधायक

20240221_055442

मगर, दोनों बार हार गए थे। 64 वर्षीय प्रवीण सिंह ऐरन 1989 में जनता दल के टिकट पर बरेली कैंट से विधायक चुने गए थे। इसके बाद 1993 में सपा से विधायक बने। उनको यूपी सरकार में राज्यमंत्री विज्ञान एवं सूचना प्रौद्योगिकी, और 1995 में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री भी रहे थे। 2009 में सांसद चुने गए थे। मगर, 2014, और 2019 लोकसभा चुनाव भाजपा सांसद संतोष कुमार गंगवार से चुनाव हार गए। 

उनकी पत्नी सुप्रिया ऐरन बरेली नगर निगम की मेयर रह चुकीं हैं, लेकिन 2022 के विधानाभा चुनाव में भाजपा के संजीव अग्रवाल से करीबी मुकाबले में हार गई थी। उन्होंने कांग्रेस में 1977 में सियासत शुरू की थी।1979 में शहर युवा कांग्रेस के महासचिव भी रहे थे। इसके साथ ही अन्य तमाम पदों भी रहे थे

भाजपा का लंबे समय से कब्जा
बरेली लोकसभा सीट पर लंबे समय से भाजपा का कब्जा है। यहां 17 बार चुनाव हुए हैं, जिसमें 8 बार बीजेपी ने बाजी मारी है, और 6 बार लगातार संतोष कुमार गंगवार ने जीत दर्ज की है। 1952, 1957 में कांग्रेस यहां से चुनाव जीती थी,लेकिन 1962 और 1967 के चुनाव में उसे करारी हार का सामना करना पड़ा। 

कांग्रेस के मुकाबले भारतीय जनसंघ ने यहां से जीत दर्ज की थी। उसके बाद तीन चुनावों में कांग्रेस यहां से जीती। 1989 के चुनाव में यहां बीजेपी की ओर से संतोष गंगवार जीते और 2004 तक लगातार 6 बार सांसद रहे। वर्ष 2009 में सांसद संतोष गंगवार चुनाव हार गए थे। मगर, 2014, और 2019 में फिर जीत दर्ज की। हालांकि, अभी भाजपा ने सांसद संतोष गंगवार के टिकट को हरी झंडी नहीं दी है।

बरेली लोकसभा सीट का सियासी समीकरण
बरेली लोकसभा सीट पर करीब 18 लाख मतदाता हैं। यहां बरेली शहर, कैंट, भोजीपुरा, मीरगंज, और नवाबगंज विधानसभा में करीब 3 लाख कुर्मी मतदाता हैं। कुर्मी मतदाता सबसे अधिक नवाबगंज विधानसाभा में हैं। मगर, इनकी संख्या भोजीपुरा, मीरगंज और शहर विधानसभा में भी ठीक है। कैंट विधानसभा में संख्या कम है। बरेली लोकसभा सीट पर मुस्लिम मतदाता 7.50 लाख, 2.50 लाख एससी, 1 लाख वैश्य, 75 हजार ब्राह्मण, 65 हजार कायस्थ, 32 हजार यादव और 45 हजार सिख मतदाता हैं।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment

Popular Posts