Bareilly News: मौलाना तौकीर रजा गिरफ्तार, समर्थकों का हंगामा, पुलिस ने भेजा घर, जानें क्या है मामला...

On

Bareilly News : वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद के तहखाने में कोर्ट के आदेश के बाद पूजा होने के विरोध में आईएमसी प्रमुख मौलाना तौकीर रजा शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद इस्लामिया मैदान पहुंचे। उन्होंने पुलिस से जेल भेजने की मांग की। मगर, इसी बीच उनके समर्थक नारेबाजी करने लगे। हालांकि, पुलिस पहले से अलर्ट थी। शहर के मार्ग बेरिकेटिंग से बंद कर दिए गए थे। हर आने जाने वाले पर निगाह रखी जा रही थी। पुलिस ने काफी मुश्किल से लोगों को शांत किया। मौलाना के साथ गिरफ्तारी देने वालों का हुजूम था।

कई जगह हुई नोकझोंक

इसके साथ ही जगह-जगह पुलिस ने लोगों को रोक रखा था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कुछ जगह से नोकझोंंक की सूचना आई। इसी दौरान सिटी मजिस्ट्रेट भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने गिरफ्तारी होने की बात कहकर मौलाना तौकीर रजा को घर भेज दिया। मौलाना ने पिछले दिनों जुमे की नमाज के बाद इस्लामिया मैदान में एकत्र होकर गिरफ्तारी देने का ऐलान किया था। जिसके चलते सुबह से ही बरेली में लोगों की भीड़ थी। शहर के कई जगह का बाजार सुबह से ही बंद था। इस्लामिया मैदान में प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के खिलाफ जानकर नारेबाजी की गई।

यह भी पढ़े - बलिया : पद से इस्तीफा देने के बाद सीयर के संकुल शिक्षकों का बड़ा ऐलान

भाजपा मंदिर हिंदुत्व विरोधी

मौलाना ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हम बेईमानी के खिलाफ हैं। हम रुकने वाले नहीं। यह आंदोलन बरेली से शुरू होकर देशभर में चलेगा। हमारे घरों मस्जिदों और मदरसों पर बुलडोजर से कार्रवाई की जा रही है। हम अंधे,और बहरे नहीं बैठ सकते हैं। हम अमन परस्ती तरीके से गिरफ्तारी देना चाहते हैं। किसी के सामने अपनी शिकायत नहीं रख सकते। मौलाना ने कहा कि सरकार और भाजपा के लोग मंदिर और हिंदुत्व के हितेषी नहीं हैं। अगर, यह हितैषी हैं तो सबसे पहले चीन के कब्जे वाले मानसरोवर मंदिर को आजाद कराएं। हमारी हुकूमतों में हमने हिंदुओं को मानसरोवर मंदिर दिया था। मगर, यह विश्व शक्ति बनने की बात कहते हैं, तो मानसरोवर मंदिर को आजाद कराकर दिखाएं। हम उनके साथ चलते हैं।

हल्द्वानी बवाल पर बोले मौलाना

मौलाना ने हल्द्वानी बवाल पर कहा कि बुलडोजर अगर हमारे घर पर चला दोगो, तो हम अंधे और बेहरे बने बैठे रहेंगे। अब किसी बुलडोजर को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट अगर संज्ञान नहीं ले रहा है, तो हम अपनी सुरक्षा खुद करेंगे। हमें कानूनी अधिकार है कि अगर कोई हमारे ऊपर हमलावर होता है, तो उसे जान से मार दें। कहा कि वह अमन पसंद तरीके से गिरफ्तारी देना चाहते हैं। किसी के सामने अपनी शिकायत रख नहीं सकते। सुप्रीम कोर्ट की जिम्मेदारी है। अगर, किसी ने अपराध किया है, तो उसको गिरफ्तार किजिए। उसकी बिल्डिंग ने कोई अपराध नहीं किया। मदरसे और मस्जिद ने कोई अपराध नहीं किया। मामला कोर्ट में जाना चाहिए, तो कोर्ट के अधिकारों का हनन हो रहा है। पुलिस बेइमानी करके सरकार के दबाव में काम कर रही है। पुलिस, बजरंग दल और शिव सेना मिलकर हमारे देश को बर्बाद कर देना चाहते हैं।

शहर के स्कूलों में अचानक की छुट्टी

आईएमसी प्रमुख मौलाना तौकीर रजा की गिरफ्तारी और इस्लामिया मैदान में भीड़ के जुटने की उम्मीद पर प्रशासन ने 12 बजते ही शहर के सभी स्कूलों की छुट्टी कर दी। स्कूलों के आसपास भी पुलिस गश्त करती रही। अचानक ही शिक्षण संस्थानों से बच्चों को ले जाने के लिए फोन कॉल और एसएमएस आएं। इससे अफरा तफरी मच गई। लोगों ने एक दूसरे से फोन पर शहर के हालात के बारे में पता किया। चौपला, चौकी चौराहा समेत कई स्थानों पर इस्लामियां की तरफ जाने वाले रास्ते पर पुलिस का सख्त पहरा कर रही है।

बाजार और रास्ते बंद

शहर के इस्लामिया कॉलेज और आसपास के मार्केट की कई दुकानें शुक्रवार दोपहर बंद हो गई। दरगाह के पास बाजार पूरी तरह से बंद है। इसके साथ ही पुलिस बैरिकेडिंग लगाकर लगातार आने जाने वालों पर नजर रख रही है। बिहारीपुर पुलिस चौकी के आसपास मस्जिदों पर पुलिस की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment

Popular Posts