बलिया में बच्चों को खौलते दूध से नहलाने का वायरल वीडियो देखें, ये है इस गांव की प्रथा

On

बलिया: पूजा के दौरान एक पंथी ने बच्चे को खौलते दूध से नहलाया. पंथी ने पहले बच्चे के चेहरे पर और फिर उसके पेट और पीठ पर गर्म दूध लगाया।

बलिया: पूजा के दौरान एक पंथी ने बच्चे को खौलते दूध से नहलाया. पंथी ने पहले बच्चे के चेहरे पर और फिर उसके पेट और पीठ पर गर्म दूध लगाया। इस दौरान बच्चा जोर-जोर से रोता रहा, लेकिन उसके बाद भी पंथी बच्चा दूध लगाता रहा। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जो 26 जून का बताया जा रहा है. यह मामला बलिया के सरवनपुर गांव का है. जहां पूजा के दौरान छोटे बच्चों को गर्म दूध से नहलाने की प्रथा है। इस पूजा में शामिल पंथियों का कहना है कि बच्चे को गर्म दूध से नहलाने में कोई परेशानी नहीं होती है. यह जलता नहीं है. यह हमारी आस्था का मामला है.

"बच्चे को फूलों की माला पहनाकर लिटाया जाता है"

वीडियो में देखा जा सकता है कि पूजा कर रहा पंथी पहले माइक पर मंत्र पढ़ता है. इसी दौरान वह बर्तन से गर्म दूध हाथ से उठाता है और उछाल देता है. कुछ लोग उन्हें माला भी पहनाते हैं. इसके बाद पंथी एक बच्चे को जमीन पर पटक देता है. फूलों की माला पहनाकर उन्हें लिटा देते हैं. वे बच्चे के पूरे शरीर पर गर्म दूध मलते हैं। फिर वे ताली बजाते हैं.

इसके बाद पंथी बच्चे को अपनी गोद में लेता है और उसके चेहरे पर गर्म दूध लगाता है। पीठ पर गर्म दूध लगाया जाता है। इस बीच बच्चा रोता रहता है. फिर बच्चे को जमीन पर लिटाकर उस पर गर्म दूध डालें। कुछ देर बच्चे को गोद में लेकर घुमाने के बाद भक्त बच्चे को माला पहनाकर किसी और को सौंप देते हैं।

यह भी पढ़े - बलिया में पिता-पुत्री गिरफ्तार... सुमित की हत्या का है आरोप

यहां देखें वीडियो-

पंथी ने कहा-काशी दास बाबा की पूजा का बहुत महत्व है

उपासक पंथी अनिल भगत कहते हैं, ''यहां काशी दास बाबा की पूजा का बहुत महत्व है. मैं स्वयं यहां काशी दास बाबा की पूजा करने आता हूं। यह पूजा घर में सुख-शांति के लिए की जाती है। परिवार में कोई विपत्ति नहीं आती। इस पूजा का आयोजन साल में एक बार किया जाता है। हमारे यहां बाबा काशी दास की पूजा का बहुत महत्व है.

"हमारी आने वाली पीढ़ी भी यह पूजा करवाएगी"

उन्होंने बताया, "यह आज की कोई नई पूजा पद्धति नहीं है. यह पूजा स्वयं कृष्ण कन्हैया ने अपने यहां की थी. मैं भी उनकी परंपरा का पालन कर रहा हूं. हमारी आने वाली पीढ़ियां भी यह पूजा करवाएंगी." पूजा का आयोजन करने वाले भगवान यादव कहते हैं कि हम लोग एक महीने से इस पूजा की तैयारी में लगे हुए थे. चंदा लेकर पूजा का आयोजन किया जाता है. जिसकी जैसी श्रद्धा होती है, वह उसी के अनुसार दान देता है।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment

ताजा समाचार

यूपी में शिक्षा का मंदिर बना अखाड़ा, शराब पीकर आए शिक्षक ने की मारपीट यूपी में शिक्षा का मंदिर बना अखाड़ा, शराब पीकर आए शिक्षक ने की मारपीट
Hathras News : हाथरस जिले की हसायन कोतवाली क्षेत्र में शिक्षा का एक मंदिर आज अखाड़ा बन गया। शराब पीकर...
दाऊद इब्राहिम के रिश्तेदार का यूपी में कत्ल, शादी में शामिल होने आया था शख्स
बलिया में थानाध्यक्ष की तहरीर पर ग्राम प्रधान समेत 49 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज
बलिया : स्टेशन हेडक्वार्टर वाराणसी कैण्ट में दो दिवसीय पूर्व सैनिक रैली, इन समस्याओं का होगा त्वरित समाधान
यूपी बोर्ड परीक्षा 2024 : बलिया में केन्द्र व्यवस्थापक और कक्ष निरीक्षक समेत तीन पर मुकदमा
UP Board Exam 2024 : बलिया में मुन्ना भाई गिरफ्तार, लगी ये संगीन धाराएं
Ballia Road Accident: बाइकों की टक्कर में युवक की मौत