बलिया में त्रिदंडी स्वामी बोले- भगवान राम ने मनुष्य के चारों धर्मों को किया चरितार्थ 

On

Ballia News : गड़हांचल के बघौना में श्री श्री 1008 गंगापुत्र श्रीलक्ष्मीनारायण त्रिदंडी स्वामी जी महाराज के श्रीमुख से रामकथा सुन कर भक्तजन निहाल हो रहे हैं। कथा के छठवें दिन बुधवार को उन्होंने कहा कि मनु के चार धर्मों को चरितार्थ करने के लिए भगवान राम अंशों सहित प्रकट हुए।

गंगापुत्र त्रिदंडी स्वामी ने बड़ी संख्या में जुटे श्रद्धालुओं को भगवान राम के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि सृष्टि के प्रारंभ में ब्रम्हा ने अपने शरीर के दो भाग किए। जिनसे मनु और शतरूपा हुए। मनु व शतरूपा ने तप किया और भगवान से कहा आप हमारे बेटा बन के आओ। हमें पीड़ा है। हमने मनु स्मृति लिखा है लेकिन मनुष्य तो कर नहीं सकते तो आप बेटा बन के आओ और पालन करके दिखाओ। जिसमें राम जी का आचरण अनुरूप है।

राम जी ने उस धर्म को चार रूपों में प्रकट किया। इसीलिए रामो विग्रह्वान धर्मः कहा गया है। अर्थात सामान्य धर्म और विशेष धर्म। सामान्य धर्म तो नींव है। लक्ष्मण जी का धर्म विशेष धर्म है। राम जी ने कहा हे लक्ष्मण ! मैं तो पिता के सत्य में बंधा हुआ हूं। मैं तो चौदह वर्ष के लिए वन में जाऊंगा। भरत और शत्रुघ्न यहां नहीं हैं। इसलिए वे धर्म में बंधे नहीं हैं। जब आयेंगे तो उन पर भार होगा। इसी बीच माता-पिता की देख-रेख कौन करेगा। अब तुम्हारा धर्म है पिता का ध्यान रखो।
त्रिदंडी स्वामी ने 'माता रामो मत पिता राम चंद्र:, स्वामी रामो मत्सखा रामचंद्र:।' के जरिए समझाते हुए कहा कि राम जी ने कहा ऐसा करोगे तो संसार में तुम्हारी अपकीर्ति होगी, नरक जाना पड़ेगा।

हमें तो बस आप और आपकी सेवा चाहिए। भरत जी का धर्म विशेषतर धर्म है। भरत ने तो वलकल धारण कर लिया। जटा बना ली पर शत्रुघ्न का धर्म विशेषतम धर्म है। शत्रुघ्न तो राज वस्त्र धारण करते हैं। नृत्य गान देखते हैं। हंसने वालों को बुला कर हंसी नाटक करवाते हैं। क्यों चौदह साल बाद राम जी आयेंगे और तुम सब रोओगे तो स्वर्ग से विदूषक आएंगे। तुम्हारा अधिकार छिन जायेगा। इसलिए इतना अभ्यास करो की तुम्हारी कला को देख राम जी खिलखिला कर हंस पड़ें। राम जी के वियोग में गायें चारा नहीं खातीं। जल नहीं पीतीं। शत्रुघ्न उनके गले से लिपट जाते।

यह भी पढ़े - बलिया में पैरा मेडिकल कालेज के प्रबंधक और प्रिंसिपल समेत चार के खिलाफ मुकदमा

कहते हैं कि आप चारा नहीं खाएंगी और कहीं शरीर छूट गया और राम जी आयेंगे और आपको नही देखेंगे तो उनको कितना कष्ट होगा राम जी को रुलाना चाहती हैं। तब गायेंचारा खाना प्रारंभ करती हैं। ऐसे ही सबको सांत्वना देते हैं। घोड़ों, हाथी और सायं को दिन भर की सूचना भरत को सुनाते हैं। रात भर राम और भरत के विरह ताप में हा राम हा भरत करते रात भर रोते हैं। फिर सुबह मुस्कुराते हुए सबको सांत्वना देते हैं। ये है दिव्य शत्रुघ्न का चरित्र। त्रिदंडी स्वामी ने कथा के अंत में चार जनवरी को होने वाले भंडारे के लिए सभी को आमंत्रित किया।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment

ताजा समाचार

यूपी में शिक्षा का मंदिर बना अखाड़ा, शराब पीकर आए शिक्षक ने की मारपीट यूपी में शिक्षा का मंदिर बना अखाड़ा, शराब पीकर आए शिक्षक ने की मारपीट
Hathras News : हाथरस जिले की हसायन कोतवाली क्षेत्र में शिक्षा का एक मंदिर आज अखाड़ा बन गया। शराब पीकर...
दाऊद इब्राहिम के रिश्तेदार का यूपी में कत्ल, शादी में शामिल होने आया था शख्स
बलिया में थानाध्यक्ष की तहरीर पर ग्राम प्रधान समेत 49 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज
बलिया : स्टेशन हेडक्वार्टर वाराणसी कैण्ट में दो दिवसीय पूर्व सैनिक रैली, इन समस्याओं का होगा त्वरित समाधान
यूपी बोर्ड परीक्षा 2024 : बलिया में केन्द्र व्यवस्थापक और कक्ष निरीक्षक समेत तीन पर मुकदमा
UP Board Exam 2024 : बलिया में मुन्ना भाई गिरफ्तार, लगी ये संगीन धाराएं
Ballia Road Accident: बाइकों की टक्कर में युवक की मौत