बलिया का तटीय गांव बाढ़ की चपेट में, गंगा का जलस्तर प्रति घंटे एक सेमी बढ़ रहा

On

Ballia Flood: गंगा नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. ऐसे में कई गांवों पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. कुछ निचले इलाके के गांव भी बाढ़ की चपेट में आ गये हैं.

Ballia Flood: गंगा नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. ऐसे में कई गांवों पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. कुछ निचले इलाके के गांव भी बाढ़ की चपेट में आ गये हैं. वहीं, गंगा का जलस्तर बढ़ने से तटीय इलाकों में कटान भी तेज हो गया है.

बाढ़ और कटान पीड़ित लगातार सरकार से न्याय की गुहार लगा रहे हैं. उदईछपरा के कटान पीड़ितों का कहना है कि बाढ़ विभाग हमें बचाने के नाम पर अपनी जेबें भर रहा है. ठेकेदारों द्वारा किसी तरह जिओ ट्यूब नदी में छोड़ दिया गया है, जो आज गंगा नदी के जलस्तर में वृद्धि के कारण दिखाई भी नहीं दे रहा है.

कटान पीड़ितों का आरोप है कि बाढ़ विभाग कोई बचाव कार्य नहीं कर रहा है। कुल मिलाकर बचाव के नाम पर खानापूर्ति की जा रही है। गोपालपुर और हुकुम छपरा में बाढ़ विभाग और उसके ठेकेदारों ने कटानरोधी कार्य में मानकों का पालन नहीं किया। अगर नदी का जलस्तर इसी तरह बढ़ता रहा तो यह 25 हजार की आबादी के लिए जानलेवा साबित हो सकता है।

पीड़ितों का कहना है कि प्रशासन कुछ नहीं कर पाएगा. इसके अलावा बाढ़ संघर्ष के नाम पर सरकारी राशि का दुरुपयोग किया जायेगा. मझौवां के लोग भी कटान से परेशान हैं। उन्होंने बताया कि पिछले 25 दिनों से पांचों परियोजनाओं पर कटावरोधी कार्य पूरी तरह ठप है. पिछले साल की बाढ़ में चौबे छपरा के सामने बने स्पर संख्या 27,500 नोज का 60 फीसदी हिस्सा गंगा की लहरों में समा गया था. स्पर के पूर्व में बने 460 मीटर लंबे रिवेटमेंट कार्य का 85 फीसदी हिस्सा गंगा की लहरों से कट गया है। इस वर्ष शासन स्तर से करीब 9 करोड़ 34 लाख की लागत से पांच परियोजनाओं को मंजूरी मिली, लेकिन काम पूरा नहीं हुआ।

यह भी पढ़े - एक्सीडेंट नहीं, हुई थी युवक की हत्या, बलिया पुलिस ने खोला राज ; हत्यारा गिरफ्तार

इधर, केंद्रीय जल आयोग गायघाट गेज के अनुसार सोमवार की शाम चार बजे गंगा का जलस्तर 50.970 मीटर दर्ज किया गया. इसके साथ ही 1 सेंटीमीटर प्रति घंटे की दर से बढ़ने का सिलसिला भी जारी है.

उधर, बाढ़ खंड के अधिशाषी अभियंता संजय कुमार मिश्र का कहना है कि गंगा का जलस्तर बढ़ने के साथ ही बारिश भी हो रही है। इसलिए बचाव कार्य में दिक्कतें आ रही हैं. बारिश के कारण बोल्डर निचली सतह पर ठीक से बैठ नहीं पा रहा है. तीन परियोजनाओं पर काम पूरा हो चुका है. जल्द ही शेष कार्य पूरा कर लिया जाएगा।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment