सामूहिक विवाह में फर्जीवाड़ा : समाज कल्याण मंत्री अरुण असीम का कड़ा रुख, दिए सख्त दिशा-निर्देश

मंत्री ने सामूहिक विवाह योजना की समीक्षा कर दिए निर्देश

On

सूबे के समाज कल्याण मंत्री असीम अरुण रविवार को बलिया पहुंचे। जहां समाज कल्याण विभाग के निदेशक सहित अन्य अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। साथ ही बलिया जिले में हुए मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना फर्जीवाड़े को लेकर सभी अधिकारियों को कार्रवाई हेतु निर्देशित किया।

Ballia News : सूबे के समाज कल्याण मंत्री असीम अरुण रविवार को बलिया पहुंचे। जहां समाज कल्याण विभाग के निदेशक सहित अन्य अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। साथ ही बलिया जिले में हुए मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना फर्जीवाड़े को लेकर सभी अधिकारियों को कार्रवाई हेतु निर्देशित किया। उत्तर प्रदेश टाइम्स ने इस मामले को प्रमुखता से उठाया था।

योजनाओं की जानकारी ली

इस दौरान उन्होंने समाज कल्याण विभाग की योजनाओं से जुड़ी जरूरी जानकारी भी ली। साथ ही कहा कि सामूहिक विवाह के आयोजन में रजिस्ट्रेशन के अनुसार मौके पर भी सत्यापन कर लिए जाएं। फरवरी महीने में भव्य तरीके से सामूहिक विवाह कराने के लिए भी अधिकारियों को निर्देशित किया। 

यह भी पढ़े - बलिया में कूलर की हवा से टूटी शादी, बिना दुल्हन लौटी बारात

जांच में और तेजी लाने के निर्देश

बलिया में हुए सामूहिक विवाह योजना फर्जीवाड़े के बाद समाज कल्याण मंत्री असीम अरुण ने जांच को लेकर तेजी लाने का निर्देश डीएम व एसपी को दिए। वहीं मंत्री अरुण असीम को जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने आश्वस्त किया, कि इस प्रकरण में कोई भी दोषी अधिकारी व कर्मचारी कार्रवाई से नहीं बच पाएगा। अन्य लोगों की संलिप्तता को भी खंगाला जा रहा है। ऐसी रणनीति बनाई गई है, कि इस फर्जीवाड़े का हर दोषी पुलिस की गिरफ्त में आ जाएगा। एसपी देव रंजन वर्मा ने बताया कि चार थानों के अपराध निरीक्षकों को इस प्रकरण में लगाया गया है। इसमें संलिप्त दलालों की खोजबीन जारी है। कई संदिग्धों को मोबाइल फोन के जरिए ट्रेस कर लिया गया है।

जो बेइमान हैं, उन्हें बेनकाब किया जाएगा

समाज कल्याण मंत्री ने अपना तेज तेवर दिखाते हुए स्पष्ट कहा कि जो बेईमान हैं उन्हें बेनकाब किया जाएगा। दोषी कोई भी हो, बक्शा नहीं जाएगा। इस बात से मैं संतुष्ट हूं कि जो अधिकारी इसमें दोषी पाए गए, उन पर प्रशासन ने तत्काल कार्रवाई की। आगे भी कार्रवाई तेज होगी। इसका दुरुपयोग रोकने के लिए और पूरे प्रदेश में आगे ऐसा न हो इसके लिए मजबूत ताले की व्यवस्था की जाएगी। दो सप्ताह के अंदर सिस्टम में बेहतर बदलाव एवं अनवरत कार्रवाई चलती रहेगी। साथ ही कहा कि 537 में 240 अब तक अपात्र पाए गए हैं, जिनकी गहनता के साथ जांच की जा रही हैं।

वर्दी तो नहीं है पर डंडा साथ लाया हूं- असीम अरुण

रविवार को मंत्री असीम अरुण ने कहा कि पुलिस में रहा हूं, वर्दी उतार चुका हूं, लेकिन डंडा साथ में लेकर आया हूं। मुख्यमंत्री ने इस प्रकरण को गंभीरता से लिया है। कुछ सोचकर उन्होंने मुझसे कहा आप खुद जांच करिए। कोई भी दोषी न बचने पाए। प्रशासनिक जांच पर कहा कि एसपी जो कर रहे हैं, ठीक कर रहें हैं। चोर तो पकड़े गए, लेकिन ताले मजबूत करने की व्यवस्था होनी चाहिए। अधिकारी, दलाल जो दोषी होंगे, किसी को बक्शा नहीं जाएगा। मैं इसीलिए आया हूं, कि एक-एक अपराधी और भ्रष्टाचारी के विरुद्ध कार्रवाई हो। यह मैं आप लोगों से भरोसा दिलाता हूं, कि प्रदेश की किसी भी योजना में जो गलत सोच रखता है या अपराध करना चाहता है वह पहले सोच ले कि प्रदेश में योगी की सरकार है, जहां गलत सोचना अक्षम्य है।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment

Popular Posts