बलिया में डेढ़ माह बाद खुला अधिवक्ता की मौत का राज, प्रेमिका गिरफ्तार

On

Ballia News : संदिग्ध परिस्थितियों में हुई अधिवक्ता गोरख प्रसाद की मौत का राज उभांव पुलिस ने हत्यारोपित प्रेमिका को गिरफ्तार कर खोल दिया। पुलिस के अनुसार अधिवक्ता की मौत सड़क दुर्घटना से नहीं, प्रेमिका द्वारा धक्का देकर गिराने की वजह से हुई थी। उभांव इंस्पेक्टर राजीव कुमार मिश्र की देखरेख में हत्याकांड के जांच अधिकारी एसआई पंकज सिंह ने सोमवार को छापेमारी कर रानी देवी पत्नी स्व. अखिलेश राम (निवासी : भिंडकुण्ड) को उसके घर से ही गिरफ्तार कर लिया।

बता दे कि ककरासो निवासी अधिवक्ता गोरख प्रसाद की मौत मामले में पुलिस ने अज्ञात वाहन के खिलाफ सड़क दुर्घटना का मामला दर्ज किया था। वहीं, अधिवक्ताओं द्वारा इसे हत्या बताकर करीब एक माह से बिल्थरारोड तहसील परिसर में धरना दिया जा रहा खा। मामले की गंभीरता से जांच करते हुए पुलिस ने घटना के करीब डेढ़ माह बाद खुलासा कर दिया। 

इस ब्लाइंड केस का खुलासा अधिवक्ता गोरख प्रसाद और हत्यारोपी प्रेमिका रानी के मोबाइल की सीडीआर रिपोर्ट के आधार पर हुआ है। इसके आधार पर छानबीन में गवाहों ने पूरे मामले का खुलासा कर दिया। प्रेमिका ने भी पुलिस के समक्ष घटना को स्वीकार करते हुए बताया कि अक्सर उनके घर अधिवक्ता आते थे। 22 जुलाई की रात भी वे नशे की हालत में थे। किसी बात को लेकर महिला की अधिवक्ता से तकझक हुई।

अधिवक्ता नशे की हालत में लकड़ी के गेट और खूंटे पर गिरकर चोटिल हो गए थे। डर से उसने अपने भाई और बेटे की मदद से टेंपू से उन्हें सीएचसी सीयर पहुंचा दिया। घटना के अगले दिन इसकी जानकारी गोरख प्रसाद के परिजनों को हुई। घायल की गंभीर स्थिति को देखते हुए चिकित्सक ने रेफर दिया था। परिजनों द्वारा इलाज के लिए मऊ अस्पताल ले जाने के दौरान उनकी मौत हो गई थी।

यह भी पढ़े - बहराइच: चहलारीघाट व खैरा बाज़ार में स्थापित एसएसटी बैरियर का DM ने किया निरीक्षण

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment