इत्र की नगरी में सत्ता में आई सावित्री सरकार, आगे हैं चुनौतियां

On

सिकंदरपुर, बलिया। सिकंदरपुर गांधी इंटर कॉलेज प्रांगण में शुक्रवार को शपथ ग्रहण के साथ ही शहर की नई सरकार ने कार्यभार संभाल लिया.

सिकंदरपुर, बलिया। सिकंदरपुर गांधी इंटर कॉलेज प्रांगण में शुक्रवार को शपथ ग्रहण के साथ ही शहर की नई सरकार ने कार्यभार संभाल लिया. सावित्री देवी ने दूसरी बार नगर पंचायत सिकंदरपुर की अध्यक्ष बनकर इतिहास दोहराया है, लेकिन उनके सामने विकास और जनभावनाओं के अनुरूप काम करने की कई बड़ी चुनौतियां हैं. बहरहाल, यह कहना अतिश्योक्ति होगी कि दर्जनों चुनौतियां शहर के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति का इंतजार कर रही हैं। कभी नहीं हुआ।

वर्षों से नगर क्षेत्र के विभिन्न वार्डों में अपने अध्यक्ष के स्वागत के लिए सुविधाओं का टोटा लगाया जा रहा है. मूलभूत सुविधाओं में शामिल सड़क, बिजली, पानी, नाली, नाली, सीवर लाइन जैसे कई विकास कार्य हैं, जो क्षेत्र में करने होंगे। वजह यह है कि शहर के लोगों को नए चेयरमैन से काफी उम्मीदें हैं। पूरे कस्बे में नाली की समस्या एक विकट समस्या है। बरसात के मौसम में नगर क्षेत्र के आधे मोहल्लों के रहवासी साल के चार महीने नाले के गंदे पानी से नारकीय जीवन व्यतीत करते हैं। अब बरसात का मौसम आने में कम समय बचा है तो शहरवासियों की इस समस्या से निजात दिलाने के लिए नए अध्यक्ष को काफी मशक्कत करनी पड़ेगी।

इसके अलावा अगर शुद्ध पेयजल की बात करें तो यह विडम्बना ही है कि आज तक यहां के लोगों को शुद्ध पेयजल भी नहीं मिल पाया है। हालांकि हर पांच साल बाद सत्‍ता सुंदरी का सुख भोगने वालों ने समस्‍या के समाधान का सपना तो दिखाया लेकिन उसे पूरा करने की कभी जहमत नहीं उठाई। सिकंदरपुर की जनता एक बार फिर नए अध्यक्ष को टकटकी लगाए देख रही है कि शायद इस बार उनकी उम्मीदों को पंख लग जाएं. नगर क्षेत्र में अधोसंरचना के विकास के लिए वैसे तो काफी काम हुए हैं, लेकिन आज तक स्वच्छ पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था का अभाव अपने आप में कई सवाल खड़े करता है।

इसके अलावा स्वच्छ भारत की अवधारणा को साकार करने में सहभागी बना इत्रों का शहर सड़क किनारे पड़े कचरे के ढेर से रोजाना आइना दिखाने का काम करता है. इसके अलावा बदहाल सड़कों, मोहल्लों में फैली गंदगी और खुलेआम घूम रहे मवेशियों से होने वाली परेशानी को दूर करना आसान नहीं है. शहरी क्षेत्र की चुनौतियों को गिनना शुरू करेंगे तो इसकी लिस्ट बहुत लंबी हो जाएगी। फिर भी सुरसा की तरह सुरसा की समस्याओं को नजरंदाज करना भी क्षेत्रीय लोगों के साथ अन्याय होगा। मसलन, अतिक्रमण, आरो वाटर प्लांट, जो सूख चुका है, शहर में मौत की तरह मंडरा रहा है, साथ ही जर्जर हाईटेंशन बिजली के तार, कुछ मुहल्लों में फैले नंगे तारों का जाला, डॉक्टर कॉलोनी में व्याप्त गंदगी से निजात मिलेगी. नए राष्ट्रपति के लिए इन सभी समस्याओं से निपटना चुनौतीपूर्ण होगा। है। देखना दिलचस्प होगा कि नए अध्यक्ष शहर के विकास में क्या कर पाते हैं।

यह भी पढ़े - Ballia Crime : किशोरी को भगाने का आरोप, युवक पर मुकदमा

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment