बलिया में गंगा ने पार किया वार्निंग लेवल, डीएम ने अफसरों को किया अलर्ट

On

मझौवां, बलिया। जिले में गंगा नदी के जलस्तर में प्रति घंटे 5 सेंटीमीटर की बढ़ोत्तरी से बाढ़ का खतरा उत्पन्न हो गया है। सोमवार को नदी ने केन्द्रीय जल आयोग गायघाट गेज पर चेतावनी विन्दु 56.615 मीटर को पार कर दिया। शाम पांच बजे जलस्तर 57 मीटर रिकार्ड किया गया।

मझौवां, बलिया। जिले में गंगा नदी के जलस्तर में प्रति घंटे 5 सेंटीमीटर की बढ़ोत्तरी से बाढ़ का खतरा उत्पन्न हो गया है। सोमवार को नदी ने केन्द्रीय जल आयोग गायघाट गेज पर चेतावनी विन्दु 56.615 मीटर को पार कर दिया। शाम पांच बजे जलस्तर 57 मीटर रिकार्ड किया गया। वहीं, जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने दूबेछपरा में बाढ़ व कटान रोकने के लिए हो रहे कटानरोधी कार्यों का निरीक्षण किया। उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा बाढ़ खण्ड के अभियंताओं को निर्देश दिया कि गंगा नदी के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए हमेशा अलर्ट मोड पर रहें। हमेशा तटबंधों पर निगरानी बनाये रखें।

बाढ़ खंड के अधिशासी अभियंता ने बताया कि जल्द ही बाढ़ का पानी डेंजर बिंदु तक पहुंचने की संभावना है। इसके लिए बाढ़ खण्ड के समस्त अभियंता अपनी टीम के साथ पूरी तरह मुस्तैद हैं। जिलाधिकारी ने गंगा किनारे के लोगों से बातचीत की और वहां हुए कार्य के बारे में जानकारी लेते हुए उनकी संतुष्टि के बारे में पूछा। लोगों ने वहां बने ठोकरों और जिओ बैग में बालू भरकर हुए कार्यों पर संतुष्टि जाहिर की।

जिलाधिकारी ने गांव के लोगों को सरकार की ओर से कराये जा रहे कार्याें में सहयोग करने को कहा। उन्होंने कहा कि लोगों को जान माल की क्षति से बचाना हमारी सर्वाेच्च प्राथमिकता है। उप जिलाधिकारी को निर्देश दिया कि प्रशासन को हमेशा अलर्ट मोड में रखें। लोगों को शुद्ध पानी, प्रकाश व्यवस्था जैसी अन्य मूलभूत सुविधाओं का हमेशा ख्याल रखने को निर्देश दिया।

कटान आबादी तरफ न हो, यह सुनिश्चित कराएं

यह भी पढ़े - यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2023 : 512वीं रैंक के साथ बलिया के आफताब ने भरी सफलता की उड़ान

जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने दुबे छपरा स्थित कन्हाई ब्रह्म बाबा के स्थान पर हो रहे कटानरोधी कार्य का निरीक्षण किया। हर हाल में यह सुनिश्चित करना है कि कटान आबादी की तरफ नहीं हो। ग्रामीणों से भी कटान रोधी कार्य में सहयोग करने की अपील की। एसडीएम आत्रेय मिश्र को निर्देश दिया कि बाढ़ कटान से निपटने के लिए हर चीज की तैयारी पहले से पूरी होनी चाहिए। लेखपाल सचिव और दो कांस्टेबल की ड्यूटी 24 घंटा लगाई जाए, ताकि ग्रामीणों को किसी प्रकार की असुविधा होने पर तत्काल सहायता किया जा सके। एसडीएम ने बताया कि बाढ से निपटने के लिए ग्रुप बना है, जिसके जरिए सम्बन्धित अधिकारी हर सूचना से अपडेट रह रहे हैं। जिलाधिकारी ने मौके पर कन्हई ब्रह्म बाबा के स्थान पर मत्था टेकते हुए ग्राम वासियों की कुशलता की कामना की।

अभी खतरा नहीं, बाढ़ विभाग अलर्ट

बाढ विभाग के सहायक अभियंता एसके प्रियदर्शी ने बताया कि इलाहाबाद से जो पानी चला है, वह कल तक यहां आ जाएगा। फिर भी कोई खतरा नहीं है। एहतियात के तौर पर जिओ बैग के समीप सोलिंग की जा रही है। ताकि कटान ना हो पाए। इस मौके पर उप जिलाधिकारी बैरिया आत्रेय मिश्र, अवर अभियंता अमरनाथ वर्मा, प्रशांत कुमार, ग्राम प्रधान सुनील कुमार के साथ दर्जनों की संख्या मे ग्रामीण उपस्थित रहे।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment