Flood In Ballia : घाघरा की बाढ़ से बढ़ा खतरा, प्रशासन अलर्ट

On

बैरिया, बलिया। सुरेमनपुर दियारांचल की गोपालनगर टाड़ी बस्ती सरयू नदी के कटान के मुहाने पर आ जाने से कटान पीड़ित तो एक तरफ परेशान है।

बैरिया, बलिया। सुरेमनपुर दियारांचल की गोपालनगर टाड़ी बस्ती सरयू नदी के कटान के मुहाने पर आ जाने से कटान पीड़ित तो एक तरफ परेशान है। वही दूसरी तरफ वहा पर कटान की भयावह स्थिति को देख प्रशासन के भी हाथ पांव फूल रहे है। स्थिति यह है कि सरयू नदी के कटान से लगभग डेढ़ हजार की आबादी खतरे के सम्मुख खड़ी है।

उपजिलाधिकारी आत्रेय मिश्र द्वारा बस्ती खाली करने के निर्देश के बाद सोमवार को मौके पर पहुँचे जिलाधिकारी रविन्द्र कुमार द्वारा गोपालनगर टाड़ी गांव को खाली कराने के आदेश के क्रम में मंगलवार को सबंधित लेखपाल द्वारा सभी घरों पर गांव खाली करने का नोटिस चस्पा करा दिया है। बावजूद इसके कोई भी व्यक्ति अपना घर नही छोड़ रहा है। 

प्रशासन द्वारा निकट के जूनियर हाई स्कूल को बाढ़ राहत केंद्र के रूप में स्थापित किया गया है। इस संदर्भ में ग्रामीणों का तर्क है कि हम लोग कैसे बाढ़ राहत केंद्र में जाएं। हमारी आबादी लगभग डेढ़ हजार है। इतने ही संख्या मवेशी की भी है। इनको कहां रखेंगे और हम लोग बच्चों के साथ कहां रहेंगे। कैसे खाना बनाएंगे। कहां खाएंगे। यह बहुत बड़ी समस्या है। क्योंकि बाढ़ राहत केंद्र पर कोई माकूल व्यवस्था नहीं है।

जबकि प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि गांव में कटान का खतरा है, और गांव के लोग बाढ़ राहत केंद्र पर जाते हैं तो उन्हें जरूरी सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी। चाहे जो भी हो गोपालनगर टाड़ी के ग्रामीण कटान के खतरे का सामना करने को तैयार है, किंतु बाढ़ राहत केंद्र पर जाने को तैयार नही है। इस संदर्भ में पूछने पर उपजिलाधिकारी बैरिया आत्रेय मिश्र का कहना है कि तहसील प्रशासन कटान की स्थिति पर नजर बनाए हुए है। यहाँ के लोगो को सभी सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी। जब वह बाढ़ राहत केंद्र में शरण लेने के लिए जाएंगे तो सारी समस्या दूर कर दी जायेगी।

यह भी पढ़े - Ballia News: भतीजे के मुंडन संस्कार में शामिल युवक गंगा में डूबा, मची चीख-पुकार

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment