बलिया में गंगा में छोड़ा गया मछली का बीज: सांसद वीरेंद्र सिंह ने मछली पालन के साथ मिश्रित खेती करने का किया अनुरोध

On

Ballia News: बलिया के भरौली स्थित गंगा नदी में शनिवार को दो लाख मछली के बीज छोड़े गए। लुप्तप्राय मछली प्रजातियों के संरक्षण और संवर्धन को ध्यान में रखते हुए.

Ballia News: बलिया के भरौली स्थित गंगा नदी में शनिवार को दो लाख मछली के बीज छोड़े गए। लुप्तप्राय मछली प्रजातियों के संरक्षण और संवर्धन को ध्यान में रखते हुए, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद और केंद्रीय अंतर्देशीय मत्स्य अनुसंधान संस्थान द्वारा कोटवा-नारायणपुर घाट पर गंगा नदी में दो लाख भारतीय मेजर कार्प बीज छोड़े गए।

राष्ट्रीय नदी रेंचिंग कार्यक्रम 2023 के अवसर पर बलिया सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त की उपस्थिति में रेंचिंग सह जन जागरूकता कार्यक्रम के तहत कतला, रोहू एवं मृगल मछलियों के बीज का भंडारण किया गया। राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के निदेशक डॉ. बीके दास ने गंगा नदी में मछली और पशुपालन के महत्व को समझाया। उन्होंने कहा कि इस वर्ष गंगा नदी में कम हो रही महत्वपूर्ण मछली प्रजातियों के 25 लाख से अधिक बीजों का रोपण किया गया है।

मिश्रित खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया

सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने लोगों से स्वच्छ रहने और जैव विविधता को बचाने का आह्वान किया। उन्होंने बलिया जिले के सुरहाताल, भागर नाला, मगही नदी, कोरहरा नाला आदि जलभराव वाले क्षेत्रों में मछली उत्पादन के लिए प्रेरित किया। जिससे रोजगार के अवसरों के साथ-साथ जल क्षेत्रों के प्रदूषण को कम करने में मदद मिलेगी। सांसद ने मत्स्य पालन के साथ मिश्रित खेती और मोटे अनाज की खेती अपनाने का अनुरोध किया। सांसद ने सक्रिय और जरूरतमंद मछुआरों को जाल भी वितरित किए।

यह भी पढ़े - Ballia Road Accident : बलिया में बोलेरो की टक्कर से एक व्यक्ति की मौत, ग्रामीणों ने रोकी रफ्तार

गंगा को स्वच्छ रखें

इस दौरान सहायक मत्स्य निदेशक संजय कुमार, बीडीओ शिवांकित वर्मा, डीके सिंह आदि ने जैव विविधता और मछलियों के बारे में जागरूक किया और गंगा को स्वच्छ रखने को कहा.

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment

ताजा समाचार