बलिया में डॉक्टर ने की आत्महत्या: बगीचे में लटकी मिली लाश, सुसाइड नोट में वाराणसी के मकान पर कब्जे का जिक्र

On

नरही, बलिया न्यूज : नरही थाना क्षेत्र के सोहांव गांव के बाहर बगीचे में पेड़ से लटकी डॉक्टर की लाश देखकर हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही पुलिस पहुंच गई और शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।

नरही, बलिया न्यूज : नरही थाना क्षेत्र के सोहांव गांव के बाहर बगीचे में पेड़ से लटकी डॉक्टर की लाश देखकर हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही पुलिस पहुंच गई और शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने मौके से एक सुसाइड नोट भी बरामद किया है। वहीं, परिजनों की तहरीर और सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस ने 6 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

सोहांव गांव निवासी डॉ. ओंकार नाथ राय वाराणसी के महमूरगंज स्थित लक्ष्मी सिनेमा हॉल परिसर में पैथोलॉजी चलाते थे. वे यहां गांव के बाहर बगीचे में घर बनाकर रहते थे। उनकी पत्नी उच्च प्राथमिक विद्यालय वैना से सेवानिवृत्त हैं और बलिया के चंद्रशेखर नगर में रहती हैं। उनके दो बेटे भी बलिया में रहते हैं। वह अपने परिवार के सदस्यों से दूर गांव में रहता था।

यह भी पढ़े - बलिया एसपी ने इन थानों के साथ किया पुलिस ऑफिस का औचक निरीक्षण, ऐसे लिए फीडबैक

मंगलवार सुबह उसका शव बगीचे में आम के पेड़ से लटका मिला। ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. वहीं, मृतक की जेब से एक पेज का सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। सूत्रों की माने तो सुसाइड नोट में डॉ. ओंकार नाथ राय ने वाराणसी के सिगरा स्थित अपने तीन मंजिला मकान का जिक्र किया है. उन्होंने उक्त घर के अंदर कुछ दबंगों के अतिक्रमण के बारे में भी लिखा है।

पुलिस ने सुसाइड नोट व मृतक के पुत्र की तहरीर पर छह लोगों के खिलाफ नामजद मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है. बताया जा रहा है कि डॉ. ओंकार नाथ राय वाराणसी के महमूरगंज स्थित लक्ष्मी सिनेमा हॉल परिसर में पैथोलॉजी चलाते थे, लेकिन कुछ साल वाराणसी छोड़कर सोहांव में रहने लगे. उसका बाकी परिवार चंद्रशेखर नगर स्थित मकान में रहता है। उनकी पत्नी लीलावती राय वैना उच्च प्राथमिक विद्यालय से सेवानिवृत्त शिक्षिका हैं। उनके दो बेटों में से एक दीपक राय बिहार में शिक्षक है और दूसरा प्रभाकर राय वाराणसी में कोई निजी काम करता है।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment