चैत्र नवरात्रि की प्रतिपदा पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़ देवी मंदिरों में उमड़ी आस्था, ब्रह्म बेला में ही गंगा स्नान करने निकले श्रद्धालु

On

चैत्र नवरात्र की पूर्व संध्या पर बलिया स्थित देवी मंदिरों के कपाट खुलते ही अफरातफरी मच गई. भक्तों की आस्था का सागर उमड़ पड़ा।

चैत्र नवरात्र की पूर्व संध्या पर बलिया स्थित देवी मंदिरों के कपाट खुलते ही अफरातफरी मच गई. भक्तों की आस्था का सागर उमड़ पड़ा। जय माता दी, जय मां दुर्गा आदि सहित वैदिक मंत्रोच्चारण से वातावरण भक्तिमय हो गया। मंदिरों में लोग शक्ति स्वरूपा मां दुर्गा की आराधना में लीन हो गए। दुर्गा सप्तशती का पाठ करने वाले कुछ लोग सुबह ही कलश स्थापना में जुट गए। इसलिए 11:30 बजे के बाद अभिजीत मुहूर्त में कलश स्थापना की।

मां दुर्गा सप्तशती का पाठ करने वाले अधिकांश लोग ब्रह्म बेला से ही गंगा स्नान के लिए निकले थे। जहां गंगा स्नान के बाद लोग घाट स्थापना के लिए गंगा जी की मिट्टी लेकर अपने घरों व स्थानों पर पहुंचे और कलश स्थापना में जुट गए. बलिया नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में देवी मंदिरों को आकर्षक ढंग से सजाया गया है।

यह भी पढ़े - अंत: जनपदीय पारस्परिक स्थानांतरण वाले शिक्षक जल्द होंगे कार्यमुक्त, देखें बलिया BSA द्वारा जारी कार्यक्रम

बलिया जिले में मां मंगला भवानी मंदिर, उचेड़ा में मां भवानी मंदिर, शंकरपुर में मां शंकरी भवानी मंदिर, ब्राहमणी में मां ब्रम्हनी देवी मंदिर, बाय में माता मंदिर, सिकंदरपुर में जालपा-कल्पा देवी मंदिर, गायघाट में भोर की पहली रोशनी से पहले। मां पंचरुखा देवी मंदिर, पंचदेवी मंदिर, कपूरी मां कपिलेश्वरी भवानी मंदिर, मां दुर्गा मंदिर, शोभनाथपुर मां भगवती मंदिर, दुर्जनपुर मां काली मंदिर, रेवती मां दुर्गा मंदिर, काली माता मंदिर, बांसडीह मां दुर्गा मंदिर, सहतवार देवी मंदिरों में भक्तों का सैलाब सहित मां दुर्गा मंदिर की शुरुआत ब्रम्हबेला से हुई।

जिलाधिकारी रवींद्र कुमार ने प्रसिद्ध मां ब्राह्मणी देवी मंदिर में पूजा अर्चना की। उम्मीदें जताई जा रही हैं। सरकार की इच्छा के अनुसार नवरात्रि के अंतिम दिन इस मंदिर में पाठ का आयोजन किया जा सकता है। इस दौरान विभिन्न मंदिरों पर पुलिस प्रशासन सतर्क रहा

Ballia Tak on WhatsApp
Tags

Comments

Post A Comment