बलिया में डॉक्टरों की भारी कमी है, जिससे मरीजों को इलाज नहीं मिल पा रहा है।

On

सीएमओ जयंत कुमार का दावा है कि मौजूदा संसाधनों की मदद से मरीजों को बेहतर इलाज की सुविधा मिल रही है.

बलिया में स्वास्थ्य सुविधाएं पिछड़ रही हैं। प्रदेश में चिकित्सकों की भारी कमी है। इसके चलते मरीजों को इलाज नहीं मिल रहा है। मजबूरी में मरीजों को अन्य चिकित्सा केंद्रों का चक्कर लगाना पड़ रहा है।

जिले में चिकित्सक के 221 अधिकृत पद होने के बावजूद मात्र 104 चिकित्सक वास्तव में मौजूद हैं. कुल 117 चिकित्सकों की आवश्यकता है। इससे मरीजों को इलाज नहीं मिल पा रहा है। जिला अस्पताल में प्रतिदिन ढाई सौ से अधिक मरीजों का इलाज किया जाता है। जिला अस्पताल में प्रतिदिन डेढ़ हजार से अधिक लोगों का इलाज किया जाता है।

यह भी पढ़े - आज फादर्स यानी बाबूजी के अपडेट वर्जन खातिर खास दिन ह

ओपीडी में अभी लोगों की भीड़ है। यहां 210 बेडरूम उपलब्ध हैं। महिला अस्पताल में 100 बेड हैं। इस सुविधा में प्रतिदिन 500 से अधिक महिला रोगियों का उपचार किया जाता है। इसके अलावा, जिले के 10 सामुदायिक और 17 बुनियादी स्वास्थ्य केंद्रों में प्रतिदिन हजारों मरीज देखे जाते हैं। डॉक्टरों की भारी कमी के कारण इतनी बड़ी संख्या में मरीजों को संभालना चुनौतीपूर्ण है।

सीएमओ जयंत कुमार का दावा है कि मौजूदा संसाधनों की मदद से मरीजों को बेहतर इलाज की सुविधा मिल रही है. सरकारी अस्पताल की व्यवस्था में बड़ा बदलाव आया है। नई मशीनें लगाई जा रही हैं। चिकित्सक की कमी को लेकर प्रशासन से संपर्क किया गया है।

Ballia Tak on WhatsApp
Tags

Comments

Post A Comment