बलिया निवासी सीआरपीएफ जवान की ड्यूटी के दौरान चाकू मारकर हत्या

अरूणाचल प्रदेश में तैनात थे सुनील पांडेय, सूचना मिलते ही गांव में मचा कोहराम

On

बलिया। अरुणाचल-असम प्रदेश सीमा पर तैनात रेवती थाना क्षेत्र अंतर्गत रामपुर दीघार गांव निवासी सीआरपीएफ जवान‌ सुनील कुमार पांडेय की हत्या बाइक सवार बादमाशों ने चाकू मारकर कर दिया। जवान की हत्या की सूचना मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। इलाके में शोक की लहर दौड़ गयी। जवान का शव शुक्रवार की सुबह तक गांव पहुंचने की संभावना है।

असम-अरूणाचल प्रदेश सीमा पर चेक गेट पर 6 सितंबर को बोर्डुम्सा में बाइक सवार बदमाशों ने घटना को अंजाम दिया। वह घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गयी। परिजनों ने बताया कि सुनील अन्य कर्मियों के साथ सादे वेश में ड्यूटी पर तैनात था। इसी बीच बाइक से मौके पर पहुंचे दो बादमाशों ने सुनील को चाकू मार दिया।

जब सुनील गिर गए तो बाइक सवार बादमाश चाकू लहराते हुए फरार हो गये। कुछ दूरी पर मौजूद सहकर्मी दौड़े लेकिन तब तक बदमाश फरार हो चुके थे। सुनील को आनन-फानन में सहकर्मियों ने कम्युनिटी हेल्थ सेंटर पहुंचाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। जहां घटना घटी वह क्षेत्र सीमा पर असम के तिनसुकिया में माधापुर बाजार के पास है।

घर का एक मात्र कमाऊ सदस्य थे सुनील

यह भी पढ़े - Bareilly News: विवाहिता के साथ दहेज उत्पीड़न...ससुर और जेठ रखता है गंदी नीयत

सीआरपीएफ में तैनात जवान सुनील घर के एकमात्र कमाऊ सदस्य थे। पिता रामनाथ पाण्डेय तथा बड़े भाई अनिल पाण्डेय गांव पर खेती करते हैं। 12 वर्षीय बड़ा लड़का सत्यम कक्षा सात तथा छोटा लड़का सात वर्षीय अनमोल कक्षा तीन में जिला मुख्यालय स्थित सेंट जेवियर्स स्कूल में पढ़ते हैं। सुनील के पिता रामनाथ, भाई अनिल, माता, दोनों बेटों का रोते-रोते बुरा हाल है। पत्नी अर्चना की स्थिति यह है कि पति के गम में वह बेहोश हो जा रही है।

पिता बोले, मेरा बेटा कर्तव्य पथ पर हुआ शहीद

पिता रामनाथ ने बताया कि बेटा देश सेवा के लिए सीआरपीएफ में भर्ती हुआ था। वह सीआरपीएफ के इंटेलिजेंस विभाग में अरुणाचल प्रदेश में वर्तमान में कार्यरत था। पिता ने बताया कि सहकर्मियों से मिली सूचना के आधार पर इंटेलिजेंस विभाग में होने के चलते पुत्र घटना के समय सादी वर्दी में ड्यूटी कर रहा था। तभी बदमाशों से उसकी मुठभेड़ हो गई। बताया कि घटना की सूचना बुधवार की शाम करीब 6 बजे बटालियन से मोबाइल द्वारा हमें मिली।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment