Ballia News : 24 घंटे बाद बालक की मौत, स्वास्थ्य केन्द्र पर हंगामा ; एएनएम पर आरोप

On

बांसडीह, बलिया : क्षेत्र के नारायनपुर गांव के एएनएम द्वारा टीका लगाने के 24 घंटे बाद डेढ़ माह की मासूम की मौत हो गई। मौत के बाद परिजनों ने गुरूवार को स्वास्थ्य केंद्र पर बालक का शव रखकर जमकर हंगामा किया। परिजनों का आरोप है कि एक साथ चार सुई लगाने के कारण उनके बालक की मौत हुई है।

गांव के नगेंद्र राजभर ने डेढ़ माह के बालक को बुधवार को गांव की आशा बहु के कहने पर गांव में स्थित स्वास्थ्य केंद्र पर ले गये थे। वहां एएनएम द्वारा टीके के चार डोज लगाये गये। परिजनों के अनुसार बच्चें के दोनों बाहों और दोनों जांघो में कुल चार इंजेक्शन लगाया गया। इसके बाद से ही उसकी हालत बिगड़ने लगी। हालत बिगड़ने पर परिजनों ने  आशा बहु से संपर्क किया तो उनका कहना था कि टीका लगने के बाद बच्चों को थोड़ी परेशानी बुखार, दस्त आदि होता है। इससे घबराने की आवश्यकता नही है।

इसके बाद परिजन आश्वस्त हो गये और धीरे धीरे बच्चे की हालत खराब होती गयी व देर रात उसकी मौत हो गयी।  मृत बच्चे के एक वर्ष के चचेरे भाई रोहन पुत्र भोला जिसे उस बच्चे के साथ ही आयु अनुसार कोई टीका लगाया गया था, उसकी भी तबियत खराब हो गयी। जिसके बाद आक्रोशित परिजन व ग्रामीण मृत बालक का शव लेकर स्वास्थ्य केंद्र पर पंहुचे और वहां हंगामा करने लगे। इस दौरान स्वास्थ्य केंद्र में ताला बंद कर सभी कर्मचारी फरार हो गये।

मौके पर पंहुचे कोतवाल योगेंद्र प्रसाद सिंह ने विरोध कर रहे लोगों व बच्चे के पिता नगेन्द्र राजभर को समझाया तथा मामले में जांच कर कारवाई का आश्वासन दिया। पुलिस ने मृत बच्चे के शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया। पुलिस के आश्वासन पर आक्रोशित ग्रामीणों की भीड़ वापस लौट गयी। कोतवाल ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद मौत का कारण स्पष्ट हो जायेगा। जिसके बाद मामले में जांच कर कार्रवाई की जायेगी।

यह भी पढ़े - महिला सशक्तिकरण हेतु महिलाओं / बालिकाओं को पुलिस द्वारा किया जा रहा जागरुक

पीएचसी बेरूआरबारी के चिकित्सा अधीक्षक डा वरूण ज्ञानेश्वर ने बताया कि टीके लगने से किसी बच्चे की मौत नहीं हो सकती। स्वास्थ्य केंद्र पर बुधवार को कई गांवों के बच्चों को टीका लगाया गया है। सभी ठीक है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर मौत का पता चल जायेगा।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment