Ballia News: बलिया जिलाधिकारी ने लिया बाढ़ से पूर्व तैयारियों का जायजा मजदूरों की संख्या बढ़ाने व काम जल्द पूरा करने के निर्देश

On

Ballia: मुख्यमंत्री द्वारा बाढ़ संबंधी कार्य 15 जून तक पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं। इसी क्रम में जिलाधिकारी रविन्द्र कुमार ने समाहरणालय सभागार में बाढ़ पूर्व तैयारियों की समीक्षा की।

Ballia: मुख्यमंत्री द्वारा बाढ़ संबंधी कार्य 15 जून तक पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं। इसी क्रम में जिलाधिकारी रविन्द्र कुमार ने समाहरणालय सभागार में बाढ़ पूर्व तैयारियों की समीक्षा की। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि जहां-जहां कार्य धीमी गति से चल रहा है, वहां मजदूरों की संख्या बढ़ाकर कार्य को जल्द से जल्द पूरा किया जाए।

कार्यकारिणी निकाय द्वारा कार्य धीमा करने पर जिलाधिकारी ने बाढ़ प्रखंड के कार्यपालक अभियंता अमृतलाल को निर्देश दिया कि यदि ठेकेदार समय पर कार्य पूर्ण नहीं करता है. इसलिए उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए। उन्होंने एसडीएम सदर को कार्य की समीक्षा कर अवगत कराने का निर्देश दिया।

यह भी पढ़े - कानपुर स्टेशन पर मिला था बलिया के युवक का शव, पत्नी ने जीआरपी पर लगाया बड़ा आरोप

गांव के कुछ लोग काम में अड़ंगा डाल रहे हैं उप जिलाधिकारी बैरिया आत्रेय मिश्रा ने बताया कि जहां बाढ़ का काम चल रहा है. वहीं गांव के कुछ लोग काम में अड़ंगा लगा रहे हैं। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि संबंधित एसओ को अवगत कराया जाए और ग्रामीणों को कार्य में बाधा नहीं डालने दिया जाए। डिप्टी कलेक्टर बैरिया ने कहा कि गोपाल नगर और नौरंगा में बाढ़ की स्थिति ज्यादा खराब है. जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि बाढ़ के समय ग्रामीणों को विस्थापित करने की अग्रिम व्यवस्था की जाए और इसके लिए विद्यालय चिन्हित किए जाएं।

कहीं-कहीं लीकेज की समस्या है

एसडीएम बांसडीह ने बताया कि कहीं-कहीं लीकेज की समस्या है। जिसे अब ठीक करने की जरूरत है। रसरा एसडीएम सदानंद सरोज ने बताया कि रसड़ा तहसील में विस्थापन की समस्या नहीं है. बेलथराद के एसडीएम ने बताया कि तगुनिया, चैनपुर भुलवा और तुरतीपार में कुछ दिक्कतें देखी जा रही हैं.

जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को वहां शिविर लगाकर बाढ़ के समय लोगों के स्वास्थ्य की जांच करने का निर्देश दिया. बाढ़ आश्रय स्थल में डॉक्टरों की टीम तैनात की जाए। इसके अलावा आशा व आंगनबाड़ियों के माध्यम से ग्रामीणों को क्लोरीन की गोलियां बांटी जाएं। ग्राम पंचायत विभाग को विस्थापित स्थलों पर अस्थाई शौचालय बनाने के निर्देश दिए। मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए कि पशुओं को रखने व उनके चारे-पानी के साथ-साथ पशुओं के उपचार की व्यवस्था की जाए।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment