बलिया : द्वारपूजा के दौरान मारपीट, बिना शादी लौटाई बारात; एक-दूसरे को मनाने के बाद अगले दिन मंदिर में हुई शादी

On

बलिया। बारात दरवाजे पर पहुंची। खुशी के माहौल के बीच द्वारपूजा शुरू हुई, तभी नाच-गाने को लेकर हंगामा हो गया।

बलिया। बारात दरवाजे पर पहुंची। खुशी के माहौल के बीच द्वारपूजा शुरू हुई, तभी नाच-गाने को लेकर हंगामा हो गया। फिर क्या बचा घराती-बाराती आमने-सामने हो गए। जमकर मारपीट हुई, जिसमें कई लोग घायल हो गए। इसके बाद बारात बिना ब्याह के लौट गई। पुलिस ने आठ लोगों के खिलाफ नामजद मामला दर्ज किया है। वहीं, सोमवार को मंदिर में तपस्या के बाद विवाह संपन्न हुआ.

खबरों के मुताबिक हल्दी थाने के पास के एक गांव में रहने वाले युवक की बारात रविवार को बांसडीह पहुंची. बारातियों का बारातियों का लड़की के पिता सहित स्थानीय लोगों ने सार्वजनिक घर में स्वागत किया। जत्था दरवाजे पर पहुंचा। द्वारपूजा चल रही थी। बाराती नाश्ता करने चला गया। वहां कुछ लोग द्वारपूजा करने लगे। बैंड बाजे के साथ नाचने-गाने के दौरान बारात के युवकों और स्थानीय युवकों में कहासुनी हो गई, जो मारपीट तक पहुंच गई। लाख दखल के बाद भी पड़ोस के युवकों ने हरकत करना नहीं छोड़ा। जब वे लड़की के घर पहुंचे, तो उन्होंने वहां रहने वाले लोगों यानी दूल्हे के परिवार को पीटना शुरू कर दिया।

दूल्हे के चाचा और चचेरे भाइयों को युवकों ने मारपीट कर घायल कर दिया। घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बांसडीह से जिला अस्पताल भेजा गया। उधर, आधी रात को दुल्हन के पिता की तहरीर पर पुलिस ने आठ कस्बे के युवकों के खिलाफ हत्या के प्रयास, बलवा और मारपीट समेत गंभीर धाराओं में मामला दर्ज किया है। परेशान बाराती बिना शादी किए ही चले गए। हालाँकि, बहुत विचार-विमर्श के बाद, दूल्हे के परिवार ने आखिरकार सोमवार को शादी के लिए सहमति दे दी, और समारोह सहतवार के चैन राम बाबा मंदिर में संपन्न हुआ।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment