बलिया - 3 गैस सिलेंडर फटने से लगी भीषण आग, 25 परिवारों की 40 झोपड़ियां खाक, विधायक ने दिया मदद का आश्वासन

On

बलिया। बांसडीह कोतवाली क्षेत्र में खाना बनाते समय गैस सिलेंडर फटने से हादसा हो गया. केवटलिया चौबे (बलुआ) गांव में बुधवार को एक के बाद एक तीन गैस सिलेंडर फटने से भीषण आग लग गई.

बलिया। बांसडीह कोतवाली क्षेत्र में खाना बनाते समय गैस सिलेंडर फटने से हादसा हो गया. केवटलिया चौबे (बलुआ) गांव में बुधवार को एक के बाद एक तीन गैस सिलेंडर फटने से भीषण आग लग गई. आग में 25 परिवारों की 40 झोपड़ियां जलकर खाक हो गईं। साथ ही 2 दर्जन बकरियां, एक गाय, एक भैंस, एक बछिया की जलने से मौत हो गई जबकि एक गाय झुलस गई।

दोपहर करीब एक बजे भोला राजभर की झोपड़ी में सिलेंडर के रेगुलेटर में आग लग गई। भोला राजभर के परिजन घर से बाहर भागे। लोग जब तक कुछ समझ पाते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया और आसपास की रिहायशी झोपड़ियों को अपने आगोश में ले लिया। आग की विकराल प्रकृति को देख ग्रामीणों ने तुरंत दमकल व पुलिस को सूचना दी।

यह भी पढ़े - Ballia News: जलेश्वर सिंह हत्याकांड मामले में कोर्ट ने हरि सिंह समेत पांच आरोपियों को किया दोषमुक्त

तब तक आग से केवटलिया निवासी कुंदन राजभर, दरोगा राजभर, मदन राजभर, दीपनारायण राजभर, विनोद रमाशंकर, स्वामीनाथ सहनी, कन्हैया सहनी, देवेंद्र सहनी, सुरेंद्र सहनी आदि की आवासीय झोपड़ियां व पशुओं के लिए रखा चारा सहित रखा सामान जल गया। इसमें राख करने के लिए। पूर्ण। हादसे से आहत योगेंद्र राजभर ने बताया कि कल ही युवती की शादी के बाद विदाई हुई थी. घर में सारा सामान रखा हुआ था, जो आग लगने से जलकर राख हो गया है। रिश्तेदारों का सामान भी जल गया।

दोपहर के समय भीषण गर्मी में धूप से बचने के लिए झोपड़ी में बंधी करीब एक दर्जन बकरियों में एक गाय का बछड़ा पूरी तरह से झुलस गया। दर्जनों पशु भी झुलस कर घायल हो गए। आग लगने की सूचना पर दलबल पहुंचे कोतवाली इंस्पेक्टर योगेंद्र प्रसाद सिंह ने ग्रामीणों व दमकल की 3 गाड़ियों की मदद से काफी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया. एडीएम, उप जिला अधिकारी राजेश कुमार गुप्ता, सीओएसएन वैश्य, नायब तहसीलदार अंजू यादव, पशु चिकित्सा अधिकारी मनोज राव ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया.

राजस्व विभाग के क्षेत्रीय लेखाकार की टीम ने नुकसान का आंकलन करने पीड़ितों से जानकारी ली। घटना की सूचना मिलते ही क्षेत्रीय विधायक केतकी सिंह भी मौके पर पहुंच गई। उन्होंने अपनी ओर से तत्काल सभी पीड़ित परिवारों को तिरपाल वितरित कर शाम का सामूहिक भोजन मौके पर ही बनवाकर पीड़ितों की मदद की। साथ ही अग्निपीड़ितों को हर संभव मदद का आश्वासन देते हुए लेखपाल को पूरे नुकसान का विवरण तैयार कर उनकी मदद करने के निर्देश दिए।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment