कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय का बलिया डीएम ने किया औचक निरीक्षण, सामने आई यह सच्चाई

On

सिकन्दरपुर, Ballia News : जिलाधिकारी रविंद्र कुमार मंगलवार को पन्दह विकास खंड के खेजुरी में स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय का निरीक्षण करने पहुंच गये। उन्होंने बालिकाओं की उपस्थिति रजिस्टर को चेक करते हुए बालिकाओं की संख्या की जानकारी ली। भौतिक सत्यापन में नामांकन के सापेक्ष बालिकाओं की उपस्थिति कम मिली।।

जिलाधिकारी ने सीसीटीवी कैमरों के न चलने का कारण पूछा तो वार्डन ने बताया कि सप्लाई वाला ट्रांसफार्मर जल गया है। जनरेटर की व्यवस्था नहीं है। वार्डन ने जिलाधिकारी से पूरे आवासीय विद्यालय के लिए सोलर लाइट लगवाने का आग्रह किया, जिस पर जिलाधिकारी ने सोलर पैनल लगाने का आश्वासन दिया। जिलाधिकारी ने वार्डन से वहां के कर्मचारियों के बारे में जानकारी ली तो उसने बताया कि यहां एक वार्डन, दो फुल टाइम टीचर, दो पार्ट टाइम टीचर, दो रसोईया, एक चपरासी, एक अकाउंटेंट और एक वाचमैन, जो रात में विद्यालय की सुरक्षा में रहते हैं, सहित दस लोग कार्यरत हैं।

वार्डन ने बताया कि यहां के कर्मचारियों का सत्र 21-22 का 3 महीने का वेतन और इस सत्र के 6 महीने का वेतन अभी तक नहीं मिला है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा अभी तक खाने का टेंडर नहीं किया गया है। इसलिए मेनू के अनुसार खाना नहीं बन पा रहा है। कहा कि वहां के कर्मचारियों को रिनुअल भी नहीं किया गया। इस पर जिलाधिकारी ने बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देशित कर इन कमियों को दूर करने का आश्वासन दिया।

आवासीय विद्यालय के शौचालय की स्थिति संतोषजनक पाई गई। वहां बेसिन में पानी नहीं आने पर जिलाधिकारी ने उसे ठीक कराने का निर्देश दिया। आरओ प्लांट का पाइप फट गया था, उसे भी ठीक करने को कहा। जिलाधिकारी ने वहां लगे पंखों और बालिकाओं के शयनकक्ष का भी निरीक्षण किया, जो संतोषजनक स्थिति में पाये गये।

यह भी पढ़े - Ballia Road Accident : देवी दर्शन को जा रही श्रद्धालुओं की जीप पलटी, एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment