Ballia: ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे का निर्माण शुरू, बलिया के इन गांवों से बिहार में होगा प्रवेश

On

बलिया : गाजीपुर के जंगीपुर से छपरा के रिविलगंज तक बनने वाले ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे के निर्माण की कवायद शुरू हो गई है. कुल 60 मीटर चौड़ी फोर लेन सड़क होगी।

बलिया : गाजीपुर के जंगीपुर से छपरा के रिविलगंज तक बनने वाले ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे के निर्माण की कवायद शुरू हो गई है. कुल 60 मीटर चौड़ी फोर लेन सड़क होगी। एनएचएआई की ओर से टेंडर प्रक्रिया पूरी करने के बाद एजेंसियों के एग्रीमेंट की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। कुल तीन एजेंसियां चार अलग-अलग हिस्सों में काम शुरू करेंगी।

90 फीसदी जमीन की रजिस्ट्री गाजीपुर व बलिया के राजस्व विभाग द्वारा की जा चुकी है. अब एनएचएआई की ओर से आरओडब्ल्यू (राइट ऑफ वे) के तहत जमीनों के सीमांकन का काम शुरू कर दिया गया है, ताकि बाद में काम में कोई बाधा न आए। फोरलेन 117.12 किमी लंबे ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे और 17 किमी लंबे फोरलेन लिंक रोड प्रोजेक्ट को धरातल पर उतारने की कवायद तेज कर दी गई है.

यह भी पढ़े - बलिया: शादी का झांसा देकर युवक ने किया यौन शोषण, मामला दर्ज

गाजीपुर के जंगीपुर से छपरा के रिविलगंज और ऊंचाडीह से बक्सर तक ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस वे बनाया जाएगा. बिहार तक फोर लेन लिंक निर्माण के लिए अधिग्रहण के क्रम में 90 प्रतिशत भूमि की रजिस्ट्री हो चुकी है. एनएचएआई से टेंडर प्रक्रिया पूरी होने के बाद एजेंसियों के एग्रीमेंट का काम चल रहा है, जिसे जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा।

एनएचएआई के अधिकारियों के मुताबिक ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे का निर्माण चार पैकेज में किया जाना है। कुल तीन एजेंसियां चार भागों में काम शुरू करेंगी। इसमें दो पैकेज की जिम्मेदारी एक एजेंसी की होगी। अधिकांश जमीनों की रजिस्ट्री होने के बाद अब एनएचएआई की ओर भौतिक सत्यापन किया जा रहा है। विभाग द्वारा आरओडब्ल्यू का काम शुरू कर दिया गया है।

विभागीय अधिकारी के अनुसार कुल 60 मीटर जमीन का अधिग्रहण किया जा चुका है। भूमि को आरओडब्ल्यू के तहत चिन्हित करने का काम शुरू कर दिया गया है ताकि किसी तरह के विवाद की स्थिति में उसका समाधान किया जा सके। वहीं, नामित एजेंसियों से करार का काम भी अंतिम चरण में है।

ग्रीनफील्ड जिले के 98 और गाजीपुर के 87 गांवों से होकर गुजरेगा

ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे जिले के 98 राजस्व गांवों और गाजीपुर के 87 राजस्व गांवों से होकर गुजरेगा और जिले के मांझी घाट को पार कर बिहार की सीमा में प्रवेश करेगा. इस एक्सप्रेस-वे के लिए सदर तहसील के 82 गांव और बैरिया के 16 गांव के किसानों की जमीन का अधिग्रहण किया गया है.

इससे अलग कुछ। गाजीपुर जिले की सदर तहसील के 22, मुहम्मदाबाद की 5 और कासिमाबाद तहसील के 22 गांवों के किसानों की भूमि अधिग्रहित की जा चुकी है.

उत्तर पूर्वी राज्यों से कनेक्टिविटी बढ़ेगी। व्यावसायिक गतिविधियां बढ़ेंगी

गाजीपुर। बलिया होते हुए बिहार के रिविलगंज तक बनने वाले ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे और बक्सर बिहार के ऊंचाडीह से फोरलेन तक लिंक रोड से सुविधाएं काफी बढ़ जाएंगी. जहां यूपी और बिहार के महानगरों में सफर करना आसान हो जाएगा। वहीं। झारखंड पूर्वोत्तर राज्यों में असम। कोलकाता तक कनेक्टिविटी मजबूत होगी। इससे व्यावसायिक गतिविधियां भी बढ़ेंगी।

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का गाजीपुर से ग्रीनफील्ड कनेक्टिविटी भी है। बलिया। छपरा और बक्सर क्षेत्र को आपस में जोड़ा जाएगा। इससे ट्रैफिक में काफी सहूलियत मिलेगी। इससे आने वाले दिनों में इस क्षेत्र की सब्जियां उपलब्ध हो सकेंगी। अनाज। दूध सहित अन्य प्राथमिक उत्पादों को बड़े शहरों में तेजी से भेजा जा सकता है। और। वहां से माल तेजी से छोटे शहरों की तरफ जा सकेगा।

जिलों से जमीन अधिग्रहण की सूचना के आधार पर आरओबी का काम शुरू हो गया है। चयनित एजेंसियों से करार का काम अंतिम चरण में है। भौतिक सत्यापन के बाद निर्माण कार्य शुरू होगा। एसपी पाठक। पीडी। एनएचएआई। आजमगढ़

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment