बलिया में सहयोगी के साथ रंगेहाथ लेखपाल गिरफ्तार

On

बांसडीह, बलिया : बांसडीह तहसील में लेखपाल द्वारा जमीन की पैमाइश में पांच हजार रुपए की रिश्वत मांगने की शिकायत पर मंगलवार को बांसडीह पहुचीं आजमगढ़ की भ्रष्टाचार संगठन निवारण की टीम ने तहसील के एक लेखपाल एवं एक अन्य व्यक्ति को रिश्वत का पैसा लेते हुए गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद एंटी करप्शन की टीम के प्रभारी बृजेश दिवेदी के नेतृत्व में आई टीम ने लेखपाल नवनीत खरवार व कथित सहयोगी सम्राट गोंड को कोतवाली लेकर चली गई। बताया जा रहा है कि दोनो व्यक्तियों के हाथो को केमिकल से धुलवाया गया।

कोतवाली क्षेत्र के सुल्तानपुर निवासी सूरज बिंद ने अपनी जमीन के पैमाइश के लिए उपजिलाधिकारी को आवेदन दिया था। जिसमे हल्के के लेखपाल नवनीत खरवार द्वारा पैमाइश के नाम पर अवैध रुपए की मांग की जा रहीं थी। पीड़ित सूरज बिंद पुत्र वीर बहादुर बिंद निवासी सुल्तानपुर के काश्तकार ने जमीन की पैमाईश के लिए पैसे की मांग करने पर आजमगढ़ स्थित एंटी करप्शन के कार्यालय पहुंच कर शिकायत की थी। इसी शिकायत पर मंगलवार की दोपहर तहसील पहुंची एंटी करप्शन की टीम ने तहसील स्थित एक कमरे से लेखपाल समेत दो व्यक्तियों को पैसे लेते रंगे हाथो गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़े - ब्यूटी पार्लर में सज रही दुल्हन की गोली मारकर हत्या

एंटी करप्शन की टीम प्रभारी निरीक्षक श्याम बाबू ने बताया कि जमीन पैमाईश के नाम पर लेखपाल नवनीत खरवार पुत्र रमेश चंद्र निवासी सवन थाना गढ़वार एवं उनके मुंशी मुन्नू कुमार प्रसाद पुत्र शंभू नारायण गोंड निवासी रामपुर कला   को पैमाईश के नाम पर पांच हजार रुपए लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया है।इनके विरुद्ध धारा 7/7ए, 12/13 (I) व 13 (2) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम  तथा 120 बी आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। टीम में निरीक्षक शैलेंद्र सिंह, ब्रजेश दिवेदी, कैलाश चंद्र, कांस्टेबल रोहित कुमार, अमित सिंह पंकज कुमार, मुकेश कुमार पटेल रहे।

धरने पर बैठे जिलाध्यक्ष

मामले में राजस्व कर्मी की भ्रष्टाचार संगठन निवारण टीम द्वारा गिरफ्तारी के बाद कोतवाली पहुंचे लेखपाल संघ के जिलाध्यक्ष निर्भय कुमार सिंह सैकड़ो राजस्व कर्मियों के साथ कोतवाली में ही धरने पर बैठ गये। जिलाध्यक्ष ने आरोप लगाया की भ्रस्ताचार संगठन निवारण की टीम द्वारा खुद बंद कमरे में जबरिया रुपए पकड़ाकर केमिकल से हाथ धुलवाया जा रहा है, जबकि मौके से किसी अन्य व्यक्ति द्वारा पैसे लिए गये जिसका लेखपाल नवनीत खरवार से दूर दूर तक कोई संबंध नहीं है। राजस्व कर्मी को भ्रस्ताचार संगठन निवारण टीम द्वारा साजिश के तहत को फंसाया जा रहा है।

लेखपाल संघ लोगों के साथ पुलिसकर्मियों की नोकझोंक

भ्रष्टाचार संगठन निवारण की पूरी कार्यवाही के दौरान लेखपाल संघ के लोगों व पुलिसकर्मियों के बीच तेज नोकझोंक भी हुई। लेकिन टीम अपनी कार्रवाई पर अड़ी रही। टीम की कार्रवाई को लेकर सैकड़ो की संख्या में राजस्वकर्मी सहित अन्य लोग कोतवाली पहुंच कर टीम के खिलाफ नारे बाजी करने लगे और सहयोगी लेखपाल को छुड़ाने के प्रयास में एक बार तो इंस्पेक्टर के आफिस में भी घुसने का प्रयास किया गया, लेकिन वहा मौजूद पुलिसकर्मियों ने बल प्रयोग कर सबको बाहर खदेड़ दिया। बवाल बढ़ता देख प्रभारी कोतवाल राजेश कुमार सिंह ने स्थिति की सूचना अपने उच्चाधिकारियों को दिया।उच्चाधिकारियों के निर्देश पर कोतवाली में आनन फानन में क्षेत्रधिकारी बांसडीह एसएन वैश्य व क्षेत्राधिकारी सिकंदरपुर भूषण वर्मा के नेतृत्व सहतवार,मनियर बांसडीह रोड़,सुखपुरा,सिकंदरपुर सहित अन्य थानों की फोर्स पहुंच गई। एंटी करप्शन की टीम की कार्रवाई  पूरी होने तक राजस्व कर्मी व पुलिस फोर्स मौके पर डटे रहे।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment