Auraiya: घरवाले नहीं माने तो थाने पहुंचे प्रेमी युगल, गेट पर बने मंदिर में लिए सात फेरे, खाई जीने मरने की कसमें

औरैया में थाने के मंदिर में पहुंचकर प्रेमी युगल ने लिए सात फेरे।

On

औरैया में थाने के मंदिर में पहुंचकर प्रेमी युगल ने सात फेरे लिए। आचार्य ने दोनों के फेरे करवाएं। दोनों से एक दूसरे को जयमाला पहनाकर साथ जीने मरने की कसमें खाई।

औरैया: शनिवार की दोपहर थाने में एक प्रेमी युगल ने पहुंचकर पुलिस को मर्जी से शादी करने का प्रार्थनापत्र दिया और थाने के गेट पर ही बने मंदिर में शादी की रस्में करने लगा। कस्बे के कुछ लोग आए और मंत्र पढ़ने को आचार्य भी आ गए। सूचना पर लडकी के पिता आए और बेटी से घर चलने की मिन्नतें करने लगे लेकिन बेटी नही मानी।

आचार्य ने दोनों के फेरे करवाएं। दोनों से एक दूसरे को जयमाला पहनाकर साथ जीने मरने की कसमें खाई। कस्बे के कुछ लोगों ने नवयुगल को आशीर्वाद भी दिया। शादी के बाद प्रेमी युगल चले गए, इसके बाद पिता पुलिस को भी खरी खोटी सुनाता रहा। दिबियापुर कस्बा निवासी एक युवक जो की ब्राह्मण है और दिबियापुर में ही रहने वाली मुस्लिम यादव जाति की लड़की से प्रेम करता था। लड़की के पिता प्राइवेट सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करते है और लड़की बीटीसी कर चुकी है।

यह भी पढ़े - समीक्षा अधिकारी का प्रश्नपत्र प्रिटिंग प्रेस से लीक कराने वाले गैंग का पर्दाफाश, छह गिरफ्तार

लड़की ने कई बार अपने घर कहा लेकिन घर के लोग राजी नहीं हुए जबकि लड़के के परिजन राजी थे। शनिवार दोपहर लड़का लड़की को लेकर थाना दिबियापुर पहुंचा और पुलिस को प्रार्थनापत्र देकर बताया कि वह लोग बालिग हैं और अपनी मर्जी से शादी करना चाहते है। प्रार्थना पत्र देकर दोनों थाने के गेट पर बने मंदिर में शादी की तैयारी करने लगे।

मंत्र पढ़ने के लिए आचार्य आए और हवन कुंड बनाया। इधर, लड़की के पिता भी आ गए और लड़की से घर चलने की मिन्नतें करने लगे। इस बीच काफी भीड़ जमा हो गई। लोगों ने लड़की से पूछा तो लड़की ने पिता के साथ जाने से इंकार कर दिया और लड़के के साथ चल दी। लोगों ने लड़की के पिता को वहां से हटाया तब तक आचार्य से सात फेरे और जयमाला कराई।  

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment