लखनऊ में 11 अवैध झोलाछाप क्लीनिकों को स्वास्थ्य विभाग ने बंद कराया, जिससे मालिकों में हड़कंप मच गया.

On

शनिवार को स्वास्थ्य विभाग ने झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई करते हुए तेजी से कार्रवाई की।

लखनऊ: शनिवार को स्वास्थ्य विभाग ने झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई करते हुए तेजी से कार्रवाई की। राजधानी के ग्रामीण क्षेत्रों में एक अभियान के परिणामस्वरूप 11 अवैध क्लीनिक बंद हो गए। इसे लेकर क्लीनिक व नर्सिंग सुविधा संचालक दहशत में हैं।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक अगर यह क्लिनिक फिर से खुला पाया गया तो उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा. उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एपी सिंह के मुताबिक मरीजों की जान से खिलवाड़ करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। शेष अवैध क्लीनिकों का संचालन रोकने के लिए संबंधित सीएचसी प्रभारियों को निर्देश दिए गए हैं।

सीएचसी प्रबंधक ने विरोध किया था।

सीएमओ के अधीन 19 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र संचालित हैं। करीब दो माह पहले रोस्टर बनाने के लिए सभी सीएचसी प्रभारियों ने अपने-अपने क्षेत्र के अवैध क्लीनिकों को चिह्नित कर लिया था। लगभग 56 नकली पाए गए। उसके बाद सीएमओ डॉ. मनोज अग्रवाल से अनुरोध किया गया कि सभी सीएचसी प्रभारियों को अपने-अपने क्षेत्र में घोटाले की जानकारी देकर जवाब दें. अवैध क्लिनिक के मालिकों ने स्वीकार्य प्रतिक्रिया नहीं दी। कड़ी मशक्कत के बाद स्वास्थ्य विभाग 11 अवैध क्लीनिकों को बंद कराने में सफल रहा।

यह भी पढ़े - डीजे पर डांस कर रही दूल्हे की बुआ की अचानक मौत हो गई.

पुलिस का दस्ता सबसे पहले मोहनलालगंज के चांद क्लीनिक और डॉ. इजहार क्लीनिक पहुंचा. पुलिस के पहुंचते ही हड़कंप मच गया। झोलाछाप डॉक्टर क्लीनिक छोड़कर फरार हो गए। इलाज के लिए बड़ी संख्या में मरीज बैठे थे। सभी को इलाज के लिए सीएचसी रेफर कर दिया गया। दूसरे दस्ते द्वारा डॉ. सलमान इंताउजा, डॉ. आदिल, डॉ. शिफा और इंताउजा मानपुर द्वारा चलाए जा रहे क्लीनिकों सहित अन्य क्लीनिकों को बंद कर दिया गया है।

Ballia Tak on WhatsApp
Tags

Comments

Post A Comment