क्या  सुनीता केजरीवाल को भी सीएम बनाएंगे? 

On

दिल्ली: ऐसे समय में जब लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार शुरू हो गया है. 15 दिन बाद वोटिंग है. दिल्ली की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी के सामने बड़ा संकट मुंह बाए खड़ा है. सीएम अरविंद केजरीवाल को राहत न मिलता देख अब भाजपा समेत दूसरे दल नए मुख्यमंत्री की बातें करने लगे हैं. वैसे तो आतिशी का भी नाम चर्चा में है लेकिन जिस तरह से भाजपा के नेता लालू प्रसाद यादव से अरविंद केजरीवाल की तुलना कर रहे हैं, उससे अटकलें लगाई जाने लगी हैं कि क्या राबड़ी देवी की तरह सुनीता केजरीवाल को दिल्ली की कमान मिलने वाली हैं? हाल में केजरीवाल की तरह उनकी प्रेस कॉन्फ्रेंस देख संभावना बढ़ गई है. हो सकता है केजरीवाल और AAP को लगे कि उनके जेल जाने के बाद पत्नी को सहानुभूति वोट मिलेंगे. ऐसे में यह जानना दिलचस्प है कि करीब तीन दशक पहले बिहार में क्या हुआ था? किचन संभालने वाली राबड़ी देवी के हाथों में कैसे बिहार की कमान आ गई थी? आगे सुनीता केजरीवाल के भी बारे में जानेंगे. 

तब राबड़ी कहती थीं, लालू जी जेल से...

'हम लोगों को तो पहले से ही आशंका थी इसीलिए सुप्रीम कोर्ट गए थे कि जज बदल दीजिए... न कोई सबूत है न गवाह. हमारे घर में रेड पड़ा कुछ नहीं मिला. लालू जी जेल से ही पार्टी चलाएंगे'... कई साल पहले जब लालू यादव को जेल हुई थी तब उनकी पत्नी राबड़ी देवी ने यह बयान दिया था. फिलहाल भाजपा के नेता दिल्ली की राजनीति को बिहार से कनेक्ट कर रहे हैं. रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि
केजरीवाल की पत्नी की सक्रियता दिखाती है कि वह लालू - राबड़ी से प्रेरित हैं. भाजपा के वरिष्ठ नेता ने यहां तक कह दिया कि ऐसा लगता है कि जेल में बंद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने सहयोगी लालू प्रसाद यादव से प्रेरणा ली है जिन्होंने भ्रष्टाचार के मामले में फंसने के बाद सत्ता की बागडोर अपनी पत्नी को सौंप दी थी. 

वेब सीरीज जैसा ही हुआ था बिहार में

राबड़ी देवी बिहार की पहली और एकमात्र महिला मुख्यमंत्री रही हैं. दो साल पहले आई एक वेब सीरीज में बिहार की वही कहानी दिखाई गई है जिसमें पति के जेल जाने पर उसकी पत्नी अचानक मुख्यमंत्री बन जाती है. राबड़ी की कहानी भी कुछ ऐसी ही थी. जब चारा घोटाला मामले में लालू प्रसाद यादव के खिलाफ चार्जशीट दाखिल हो गई और यह तय हो गया कि अब उन्हें जेल जाना होगा. यह भी तय था कि सीएम पद से इस्तीफा देना होगा. लालू के दिमाग में कई बातें चलने लगीं. वह ऐसे भरोसेमंद को सत्ता सौंपना चाहते थे जो उनकी बात माने. 

लालू के दांव से विपक्ष हैरान

उसी समय बिहार को पहली महिला मुख्यमंत्री मिलने की पटकथा लिखी गई. यह एक ऐसा फैसला था जिसके लिए पार्टी के पुराने नेता भी तैयार नहीं थे. लालू ने सबको साधा और विपक्ष उनके दांव से हैरान रह गया था. 25 जुलाई 1997 को राबड़ी देवी ने बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. 

यह भी पढ़े - आरपीएफ ने ट्रेन से शराब किया जब्त

कहा जाता है कि खुद राबड़ी देवी भी मुख्यमंत्री बनने के लिए तैयार नहीं थीं. सीएम की कुर्सी पर बैठने से पहले राबड़ी घर तक ही सीमित थीं. वह घर में रहती थीं और बच्चों की देखभाल करती थीं. हालांकि सियासी उठापटक ने एक घरेलू महिला के हाथों में बिहार जैसे राज्य की कमान सौंप दी. लालू चाहते तो अपनी पार्टी के करीबी नेता को सत्ता सौंप सकते थे लेकिन सियासत का यह मंझा हुआ खिलाड़ी समझ रहा था कि मुख्यमंत्री की कुर्सी ऐसी है जिस पर बैठने के बाद दूसरे पर भरोसा नहीं किया जा सकता है. कुछ साल बाद बिहार ने मांझी-नीतीश प्रकरण में ऐसा ही देखा.

'केजरीवाल ने लालू से सीखी तरकीब'

पूर्व केंद्रीय मंत्री और पटना साहिब लोकसभा सीट से उम्मीदवार रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इन दिनों केजरीवाल की पत्नी काफी सक्रिय नजर आ रही हैं. उन्हें उस कुर्सी पर देखा जा सकता है जिस पर उनके पति दिल्ली के मुख्यमंत्री के तौर पर बैठते थे. दरअसल, केजरीवाल की पत्नी सुनीता अपने पति के सत्ता में रहने के दौरान राजनीति से दूर रहीं लेकिन हाल के दिनों में उन्होंने कुछ वीडियो बयान जारी किए है. भाजपा नेता ने कहा, ‘हो सकता है कि एक सहयोगी के रूप में केजरीवाल ने लालू प्रसाद से कुछ तरकीबें सीखी हों.’ 

केजरीवाल की स्टाइल में प्रेस कॉन्फ्रेंस

हाल में केजरीवाल की पत्नी लगातार मीडिया के सामने आई हैं. कुछ दिन से दिल्ली के संभावित सीएम में उनका नाम आने लगा है. हालांकि आम आदमी पार्टी कह रही है कि केजरीवाल जेल से ही सरकार चलाएंगे लेकिन आगे अगर किसी तरह का राजनीतिक संकट पैदा हुआ तो पार्टी प्लान-बी पर भी जरूर काम कर रही होगी. हाल में प्रेस कॉन्फ्रेंस में वह अपने पति की स्टाइल में ही संबोधित करती दिखाई दीं. उन्होंने दिल्ली के सीएम का संदेश पढ़ा. बाद में 'केजरीवाल को आशीर्वाद' कैंपेन की शुरुआत की. व्हाट्सएप नंबर भी शेयर किया. कुछ लोग तो उन्हें अघोषित मुख्यमंत्री कहने लगे हैं. 

कौन हैं सुनीता केजरीवाल?

 दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल पहले सार्वजनिक मंचों से दूर रहती थीं. सीएम के गिरफ्तार होने के बाद उनकी राजनीतिक गतिविधियां बढ़ी हैं. 
 सुनीता केजरीवाल पूर्व आईआरएस ( अधिकारी हैं.  

 इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में दो दशक से ज्यादा समय तक सेवा देने के बाद उन्होंने 2016 में वीआरएस ले लिया था. 

- जब अरविंद केजरीवाल आईआरएस अधिकारी थे, तभी ट्रेनिंग के दौरान उनकी मुलाकात हुई थी. वह नौकरी छोड़ने के फैसले में उनके साथ रहीं. 
केजरीवाल की गिरफ्तारी के विरोध में दिल्ली में कल यानी 31 मार्च को रैली होगी. आम आदमी पार्टी के नेताओं ने रैली के लिए घर-घर जाकर लोगों को आमंत्रित किया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आबकारी नीति में कथित भ्रष्टाचार के मामले में ईडी ने 21 मार्च को गिरफ्तार कर लिया था.

 

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment