UP Politics: लोकसभा चुनाव 2024 से पहले I.N.D.I.A गठबंधन में बवाल! इस मुद्दे पर सपा-कांग्रेस के बीच जुबानी जंग छिड़ गई है

UP Politics: लोकसभा चुनाव 2024 से पहले यूपी में भारतीय गठबंधन के बीच मतभेद देखने को मिल रहे हैं, बागेश्वर की हार के लिए कांग्रेस ने एसपी को जिम्मेदार ठहराया तो एसपी ने भी पलटवार किया.

On

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव से पहले यूपी की घोसी और उत्तराखंड की बागेश्वर सीट पर हुए उपचुनाव के बाद कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है. घोसी में एसपी की जीत के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय राय ने बागेश्वर में हार के लिए एसपी को जिम्मेदार ठहराया और कांग्रेस की हार के लिए एसपी को जिम्मेदार ठहराया, जिसके बाद एसपी और कांग्रेस के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है. रहा है। सपा प्रवक्ता और उत्तराखंड प्रभारी राजेंद्र चौधरी ने अब कांग्रेस को जवाब दिया है.

कांग्रेस अध्यक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए सपा नेता राजेंद्र चौधरी ने कहा कि कांग्रेस ने पहले कभी सपा को कोई भाव नहीं दिया था, उन्हें लगा कि हमें यहां सपा के समर्थन की जरूरत नहीं है और जब हमने वहां अपना उम्मीदवार उतारा और कांग्रेस ने उपचुनाव कराया. अगर वह हार जाती है तो अब वह हम पर आरोप लगाती है।' सपा नेता ने कहा कि हमने यूपी में राजनीतिक शिष्टाचार का पालन करते हुए घोसी में कांग्रेस से समर्थन मांगा था, लेकिन कांग्रेस ने बागेश्वर में ऐसा कुछ नहीं किया.

अजय राय का एसपी पर आरोप

दरअसल, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय राय ने तीन दिन पहले एक कार्यक्रम के दौरान बागेश्वर में हार के लिए एसपी को जिम्मेदार ठहराया था. उन्होंने कहा कि घोसी उपचुनाव में हमने सपा को समर्थन दिया. इस जीत में कांग्रेस का भी योगदान था, लेकिन बागेश्वर में सपा ने ऐसा नहीं किया और अपना उम्मीदवार खड़ा कर दिया, जिसने कांग्रेस को हरा दिया. उन्होंने आरोप लगाया कि अखिलेश यादव की कथनी और करनी में अंतर है.

यह भी पढ़े - UP Crime News: बेड पर महिला सिपाही, फंदे पर लटका मिला कांस्टेबल का शव

कांग्रेस पर सपा का पलटवार

अजय राय के आरोपों का जवाब देते हुए सपा नेता ने कहा कि बागेश्वर में कांग्रेस को लगा कि उन्हें सपा के समर्थन की जरूरत नहीं है. उन्होंने राजनीतिक शिष्टाचार का पालन करने की भी कोशिश नहीं की और न ही हमसे मदद मांगी. जबकि घोसी में हमने राजनीतिक शिष्टाचार का पालन किया और कांग्रेस को पत्र लिखकर मदद मांगी. राजेंद्र चौधरी ने कहा कि वह खुद पत्र लेकर उनके पास गये थे. अगर उन्होंने बागेश्वर में हमसे मदद मांगी होती तो सपा अध्यक्ष बहुत साहस दिखाते और अपने उम्मीदवार का नामांकन भी वापस ले लेते.

यूपी में कांग्रेस और एसपी के बीच ये जुबानी जंग ऐसे समय में तेज हुई है जब भारत गठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर भी कोई फैसला नहीं हुआ है. ऐसे में माना जा रहा है कि भविष्य में गठबंधन में और भी दिक्कतें देखने को मिल सकती हैं. हालांकि, इन बातों पर एसपी नेता का कहना है कि इससे भारत गठबंधन पर कोई असर नहीं पड़ेगा, क्योंकि यह स्थानीय चुनाव था और हम सभी लोकसभा में मिलकर 2024 में बीजेपी का मजबूती से मुकाबला करने के लिए तैयार हैं.

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment