दिल्ली में महिला कांस्टेबल की हत्या का दो साल बाद हुआ खुलासा, हेड कांस्टेबल ही निकला हत्यारा 

On

दिल्ली में महिला कांस्टेबल  की हत्या के दो साल बाद हुए खुलासे ने सबको हैरान कर दिया है। दरअसल, हत्यारा और कोई नही बल्कि महिला कांस्टेबल  के साथ काम करने वाला हेड कांस्टेबल  है।  

वह दो साल तक महिला कांस्टेबल  के परिवार वालों को गुमराह करता रहा, जानकारी के अनुसार 2012 में आरोपी हेड कांस्टेबल  सुरेश राणा दिल्ली पुलिस की पीसीआर यूनिट में भर्ती थे। ठीक दो साल बाद पीसीआर यूनिट में महिला कांस्टेबल  मोना की भी भर्ती 2014 में हई।

यह भी पढ़े - Jabalpur students suicide: मोबाइल पर गेम खेलने से रोका तो 9वीं की छात्रा ने फंदा लगाकर दे दी जान, जानें पूरा मामला

यहां पर ही सुरेश और मोना एक दूसरे के संपर्क में आए थे। मोना सुरेश को डैडा यानि पिता बुलाती थी और सुरेश उसे बेटा बोलता था। बताया जा रहा है कि मोना का सलेक्शन कुछ समय बाद यूपी पुलिस में सब इंस्पेक्टर के लिए हो गया और वह दिल्ली पुलिस की नौकरी छोड़कर मुखर्जी नगर में यूपीएससी की तैयारी करने लगी।

मोना IAS या IPS बनना चाहती थी। सुरेश मोना पर बुरी नजर रखने लगा जब मोना ने इसका विरोध किया तो सुरेश 8 सितंबर 2021 को मोना को लेकर दिल्ली के अलीपुर में अपने घर की तरफ ले गया और ऑटो रुकवाकर गला दबाकर मोना की हत्या कर दी और बड़े नाले में मोना की लाश को फेंक दिया।

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment