शादी के बाद पार्टनर के साथ पहली ट्रिप को बनाएं यादगार, सफर के दौरान इन बातों का रखें ध्यान

On

शादी के बाद साथी के साथ पहली यात्रा किसी भी लड़की के लिए बहुत खास होती है। इस यात्रा के दौरान लड़का और लड़की एक दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करते हैं। ऐसे में यात्रा के दौरान कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखकर अपनी यात्रा को आरामदायक और यादगार बनाया जा सकता है। अपने जीवनसाथी के साथ पहले सफर पर सबसे खास पल होता है। दंपत्ति अपनी इस यात्रा के लिए बहुत ज्यादा उत्साहित होते हैं। वे इसे यादगार बनाना चाहते हैं, चाहते हैं कि एक-दूसरे को कुछ खास अनुभव दे सकें। 

लेकिन कई बार अनजाने में कुछ ऐसा कर बैठते हैं कि यात्रा का आनंद खत्म हो जाता है और मन में परस्पर स्वभाव के बारे में कुछ गलतफहमियां बैठ जाती हैं। ऐसे में अगर आप भी अपने साथी के साथ पहली बार सफर पर जा रही हैं तो कुछ बातों का खासतौर ध्यान रखें। 

पार्टनर की पसंद का ध्यान

पहली यात्रा में सिर्फ अपनी पसंद की ही चीजें ना करें बल्कि साथी की पसंद को भी अहमियत दें। मसलन, उन्हें क्या खाना और कहां घूमने जाना पसंद है। इससे आप दोनों घूमने के साथ एक-दूसरे को अच्छे से समझ भी सकेंगे। अगर आप सिर्फ अपनी पसंद के काम ही करेंगी तो संभव है कि आपके साथी को लगे कि आप दबंग स्वभाव की हैं। यह गलतफहमी जीवन के रंग में भंग का काम कर सकती है।

यह भी पढ़े - डायबिटीज, थायरॉइड ज्वॉइंट पेन के लिए पिएं यह सूप

पैनिक न हों

अक्सर कुछ लोग यात्रा के दौरान छोटी-छोटी बातों से पैनिक हो जाते हैं। इससे कई बार उनकी तबियत बिगड़ जाती है और यात्रा का सब आनंद खत्म हो जाता है। या फिर चीजें पसंद की नहीं हों, तो लोगों का मूड खराब हो जाता है। ऐसे में वे अपने साथी पर झल्लाने या चिड़चिड़ाने लगते हैं, आप भूलकर भी ऐसी गलती न करें। वक्त साथ में बिताएं और घूमने भी जाएंजीवनसाथी के साथ पहली यात्रा में केवल होटल में ही न बैठी रहें, बल्कि पार्टनर के साथ बाहर घूमने भी जाएं। आस-पास के नजारों और बाजारों को भी देखें। इससे नए अनुभव मिलेंगे और उन पर बातचीत में दोनों को एक-दूसरे का नजरिया भी समझ में आएगा। हां, घूमने के साथ आराम का भी ध्यान रखें। ऐसा न हो कि इतना घूम लें कि शाम को आप पर थकान हावी हो जाए।

खाने की चीजें और दवाएं

घर से बाहर सफर में अनेक चीजों की जरूरत होती है। ऐसे में पैकिंग करते वक्त जरूरत की चीजों के साथ ही खाने-पीने की चीजें और कुछ सामान्य दवाइयां भी रखें। जब सफर में भूख लगे तो आप आराम से खा सकें और साथी को भी खिला सकें। इसके अलावा सफर की थकान या हल्के सिरदर्द में दवाई के लिए परेशान न होना पड़े। इससे जीवनसाथी को आपका केयरिंग नेचर भी समझ में आएगा।

सामान उठाने में हेल्प

जब आप दोनों साथ पहले सफर पर हैं तो ऐसा न करें कि खुद मस्ती से घूमें और सारा सामान केवल पति ही उठाते रहें। आपको खुद से पहल करके सामान उठाने में पति की मदद करनी चाहिए। इससे जीवन के बोझ को मिलकर उठाने का संदेश भी आप उन्हें दे सकेंगी। 

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment