संदेशखाली के पीड़ितों से तथ्यान्वेषी समिति ने की मुलाकात, कहा- पीड़ित महिलाओं की आवाज अनसुना कर रही पुलिस

On

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल के संदेशखाली के पीड़ितों से रविवार को तथ्यान्वेषी समिति के सदस्यों ने मुलाकात की। मुलाकात के बाद मीडिया से बातचीत में समिति की सदस्य भावना बजाज ने बताया कि वे 28 से 70 साल की उम्र की 20 महिलाओं से मिलीं। इस दौरान 70 साल की महिलाएं खड़े होकर रो रही थीं, उन्हें अपनी बेटियों और बहुओं की चिंता है। उन्होंने बताया कि वे एक पीड़िता से मिलीं जिसके पूरे चेहरे पर चोट के निशान थे। हर रात वह अपनी चार साल की बच्ची को आरोपितों से बचाने के लिए छिपने को मजबूर होती थी। अपराधियों ने उसके पति को गांव छोड़ने के लिए मजबूर किया।

भावना बजाज ने बताया कि अधिकतर पीड़ित महिलाओं ने शिबू हाजरा नामक एक व्यक्ति का नाम लिया है। जब भी लोग उनके पार्टी कार्यालय में जाते हैं, तो वे महिलाओं को लाते हैं और रखते हैं। मनोरंजन के लिए पूरी रात महिलाओं का इस्तेमाल करते थे। लोग इस कदर डरे हुए हैं कि वे बलात्कार या यौन उत्पीड़न शब्द का उपयोग नहीं कर पा रहे हैं। लेकिन उनके शरीर पर चोट और चोट के निशान स्पष्ट रूप से उनकी कहानी बयान कर रहे हैं। पीड़ित महिलाओं का कहना है कि वे अपनी शिकायत लेकर पुलिस के पास नहीं जा सकतीं क्योंकि कोई उनकी बात नहीं सुनता है।

यह भी पढ़े - बिहार में पेट्रोल-डीजल की कीमत में गिरावट

Ballia Tak on WhatsApp

Comments

Post A Comment

Popular Posts